Home Blogs Interview आयुर्वेदिक प्रोडक्ट के लिए पेटेंट और कॉपीराईट के नियम

आयुर्वेदिक प्रोडक्ट के लिए पेटेंट और कॉपीराईट के नियम

NS Desk

आयुर्वेद की स्वीकार्यता पूरे विश्व में तेजी से बढ़ रही है. भारतीय आयुर्वेद चिकित्सकों के लिए एक तरफ यह प्रसन्नता की बात है तो दूसरी तरफ कॉपीराईट और पेटेंट को लेकर चिंता भी है. दरअसल आयुर्वेद के बहुत सारी औषधियों और प्रोडक्ट पर पश्चिमी देशों की बड़ी - बड़ी दवा कंपनियों की नज़र है. वे अलग-अलग नाम से या तो उसका पेटेंट और कॉपीराईट ले चुके हैं या लेने की ताक में है. ऐसे में भारतीय आयुर्वेद चिकित्सकों को पेटेंट और कॉपीराईट के नियमों से अवगत होना जरुरी है. इसी संबंध में वैद्य अनुपम बता रहे हैं जो ऋषिकल्प हेल्थकेयर नाम से अपना क्लिनिक चलाते है और उन्होंने त्रिदोष क्लॉक समेत अपनी कई आयुर्वेदिक प्रोडक्ट का पेटेंट और कॉपीराईट करवाया है. सुनिए पेटेंट और कॉपीराईट के नियम -

पेटेंट और कॉपीराईट के नियम -

 

Latest Videos See All

डायबिटीज के कारण, लक्षण और उसका आयुर्वेदिक उपाय - Diabetes Causes, Symptoms and Ayurvedic Remedies in Hindi
NS Desk
सर्जरी की अनुमति आयुर्वेद के शल्य चिकित्सकों का मौलिक अधिकार
NS Desk
Ayurvedic Treatment for Migraine : Dr. Jyothi Viswambharan
NS Desk