Home Blogs Video पुरुष इनफर्टिलिटी की समस्या से बचना चाहते हैं तो इन चीजों से बचे !

पुरुष इनफर्टिलिटी की समस्या से बचना चाहते हैं तो इन चीजों से बचे !

By NirogStreet Desk| posted on :   22-Nov-2019| Video

ayurveda and male infertility ( Image Source - Google )

पुरुष बांजपन या इनफर्टिलिटी के कारण : MALE INFERTILITY CAUSES IN HINDI

संतानोपत्ति में असमर्थ होना बांजपन या इनफर्टिलिटी कहलाता है. आज के युग में ख़राब जीवनशैली, डिजिटाइलेजशन, शहरीकरण आदि के कारण हमारा शारीरिक और मानसिक तनाव बढ़ता ही जा रहा है जिसकी वजह से इनफर्टिलिटी की समस्या भी बढती जा रही है. यदि आंकड़ों की बात करे तो पूरे विश्व के 15% शादीशुदा जोड़े इनफर्टिलिटी की समस्या से ग्रसित हैं. आमतौर पर संतानोपत्ति न होने पर महिला को ही दोषी ठहराया जाता है. लेकिन सच्चाई ये है कि २० से ३० % मामलों में इनफर्टिलिटी के लिए पुरुष जिम्मेवार होते हैं. वैसे वास्तविकता ये है कि एक उत्तम संतानोंपत्ति के लिए महिला और पुरुष दोनों का स्वस्थ्य होना जरुरी है , यदि दोनों में से किसी में भी कोई कमी है तो संतानोपत्ति की राह में बाधा खड़ी हो जाती है. आइये जानते हैं कि इनफर्टिलिटी के लिए जिम्मेदार कुछ प्रमुख कारक कौन-कौन से हैं –

- खराब जीवनशैली पुरुष इनफर्टिलिटी का सबसे बड़ा कारण है. भागदौड़ की जिन्दगी में आजकल हम आयुर्वेद द्वारा वर्णित दिनचर्या का पालन नहीं करते. उसके अलावा हमारे शारीरिक श्रम में भी काफी कमी आयी है. हम दिन – रात मोबाईल/ लैपटॉप से घिरे हुए हैं. सारी सुविधाएं बैठे-बैठे ही मिल जाती है. इसकी वजह से हमारा शरीर मेटाबौलिक डिजीज का घर बन जाता है. हम डायबिटीज, मोटापा आदि से ग्रसित हो जाते हैं जिससे इनफर्टिलिटी की समस्या उत्पन्न हो जाती है.

- प्रदूषण – दिल्ली जैसे महानगरों में प्रदूषण की समस्या विकराल रूप धारण कर चुकी है जो इनफर्टिलिटी पर असर डालती है.

- अल्कोहल – अधिक मात्रा में शराब पीने से भी इनफर्टिलिटी की समस्या हो सकती है स्पर्म काउंट पर भी इसका सीधा असर पड़ता है.

- धुम्रपान – धुम्रपान करना भी इनफर्टिलिटी के लिए जिम्मेवार हो सकता है एक शोध के माध्यम से ये बात सामने आयी है कि धुम्रपान न करने वाले पुरुषों का स्पर्म काउंट धुम्रपान करने वाले पुरुषों की तुलना में ज्यादा होता है

- भोजन – खराब खान-पान और फास्टफूड की वजह से हमारे भोजन में विटामिन-मिनरल्स की बहुत कमी हो गयी है जिससे एंटीऔक्सिडेंट की काफी कमी हो गयी है जिसका सीधा असर स्पर्म काउंट पर पड़ता है

- तकनीक – ये डिजिटल युग है. हम मोबाईल-लैपटॉप से हरदम घिरे हुए हैं. हम मोबाईल को अपने पैंट की जेब में रखते हैं , लैपटॉप को टांगों पर रखकर टाइप करते हैं. ये अस्थायी स्पर्म काउंट को प्रभावित करता है जो इनफर्टिलिटी का कारण हो सकता है

- सोयायुक्त आहार का सेवन ज्यादा करते हैं तो वह भी इनफर्टिलिटी का एक प्रमुख कारण हो सकता है .

आयुर्वेद में Male Infertility से बचाव का समाधान (Treatment) दिया हुआ है जिसके बारे में वैद्यय अंकुर कुमार तंवर (Vd. Anukur Kumar Tanwar) नीचे दिए वीडियो में विस्तार से बता रहे हैं -

Read More >>> मोटापा से बचना है तो भोजन के ये तरीके अपनाएं

आर्थराइटिस का आयुर्वेद द्वारा मैनेजमेंट

डॉ. अशोक तोमर से लीजिये क्षारसूत्र की पूरी जानकारी

डॉ. नवीन से जानिए बवासीर का आयुर्वेदिक उपचार

बवासीर (PILES) से बचाव के उपाय : डॉ. नवीन चौहान