Looking for
  • Home
  • Blogs
  • NirogStreet Newsजंगल की आग की तरह क्यों फैलता है डेल्टा कोविड वेरिएंट?

जंगल की आग की तरह क्यों फैलता है डेल्टा कोविड वेरिएंट?

User

By NS Desk | 10-Sep-2021

डेल्टा कोविड वेरिएंट

सार्स-सीओवी-2 स्पाइक प्रोटीन में एक प्रमुख अमीनो-एसिड उत्परिवर्तन यह बता सकता है कि कोविड-19 का डेल्टा वेरिएंट दुनियाभर में इतनी तेजी से क्यों फैल गया है। यह बात शोधकर्ताओं ने कही। सार्स-सीओवी-2 डेल्टा वेरिएंट ने दुनियाभर में अल्फा वेरिएंट को तेजी से बदल दिया है। महामारी विज्ञान के अध्ययनों के अनुसार, पहली बार 2020 के अंत में भारत में पहचाना गया डेल्टा वेरिएंट, पिछले साल ब्रिटेन में पहली बार पहचाने गए अल्फा वेरिएंट की तुलना में कम से कम 40 प्रतिशत अधिक पारगम्य है।

हालांकि, इस वैश्विक प्रतिस्थापन को चलाने वाले तंत्र को अभी तक परिभाषित नहीं किया गया है।

अध्ययन में अभी तक किए गए प्रयोगों की समीक्षा की गई है और प्री-प्रिंट सर्वर बायोरेक्सिव पर इसे पोस्ट किया गया है। यह दर्शाता है कि डेल्टा स्पाइक में पीओ 81आर उत्परिवर्तन अल्फा-टू-

डेल्टा वेरिएंट के प्रतिस्थापन में कैसे महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

टेक्सास विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं और अन्य ने निष्कर्ष में लिखा, डेल्टा सार्स-कोव-2 ने मानव फेफड़े की उपकला कोशिकाओं और प्राथमिक मानव वायुमार्ग के ऊतकों में अल्फा वेरिएंट को कुशलता से पछाड़ दिया।

नेचर के मुताबिक, पी 681 आर उत्परिवर्तन स्पाइक प्रोटीन के एक गहन अध्ययन क्षेत्र के भीतर आता है, जिसे फ्यूरिन क्लीवेज साइट कहा जाता है।

अमीनो एसिड पी 681आर की छोटी स्ट्रिंग इन्फ्लूएंजा जैसे अन्य वायरस में बढ़ी हुई संक्रामकता से जुड़ी है।

गैल्वेस्टन में यूनिवर्सिटी ऑफ टेक्सास की मेडिकल ब्रांच के एक वायरोलॉजिस्ट पे-योंग शी ने कहा, "डेल्टा की प्रमुख पहचान यह है कि ट्रांसमिसिबिलिटी अगले पायदान तक बढ़ रही है।"

शी ने कहा, "हमने सोचा कि अल्फा बहुत खराब था, फैलाने में बहुत अच्छा था। यह और भी अधिक प्रतीत होता है।"

इसके अलावा, पी 681आर उत्परिवर्तन की उपस्थिति ने डेल्टा वेरिएंट को समान संख्या में डेल्टा और अल्फा वायरल कणों से संक्रमित सुसंस्कृत मानव-वायु उपकला कोशिकाओं में अल्फा संस्करण को तेजी से आगे बढ़ाने में सक्षम बनाया। हालांकि, जब टीम ने पी 681आर उत्परिवर्तन को समाप्त कर दिया, तो डेल्टा का लाभ कम हो गया।

नेचर की रिपोर्ट में कहा गया है कि अध्ययन में यह बात भी सामने आई कि उत्परिवर्तन सार्स-कोव-2 के प्रसार को एक कोशिका से दूसरे कोशिका में भी गति देता है।

टोक्यो विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं ने पाया कि पी 681आर उत्परिवर्तन को प्रभावित करने वाले स्पाइक प्रोटीन असंक्रमित कोशिकाओं के प्लाज्मा झिल्ली के साथ फ्यूज होते हैं - संक्रमण में एक महत्वपूर्ण कदम - स्पाइक प्रोटीन की तुलना में लगभग तीन गुना तेज होता है, जिसमें परिवर्तन की कमी होती है।

टीम का सुझाव है कि पी 681आर उत्परिवर्तन अकेला नहीं हो सकता है और इसके तेज संचरण को समझने के लिए डेल्टा के स्पाइक प्रोटीन में अन्य उत्परिवर्तन की जांच के लिए आगे के अध्ययन की जरूरत है।
यह भी पढ़े► फेफड़े सामान्य रूप से खराब होने पर भी दिल के दौरे से मौत की आशंका

consult with ayurveda doctor.
डिस्क्लेमर - लेख का उद्देश्य आपतक सिर्फ सूचना पहुँचाना है. किसी भी औषधि,थेरेपी,जड़ी-बूटी या फल का चिकित्सकीय उपयोग कृपया योग्य आयुर्वेद चिकित्सक के दिशा निर्देश में ही करें।
Subscribe to our Newsletters