Looking for
  • Home
  • Blogs
  • NirogStreet Newsश्रीपद यसो नाइक ने कहा, राष्ट्रीय आयुर्वेद संस्थान से 2 करोड़ लोगों को मिलेगा फायदा

श्रीपद यसो नाइक ने कहा, राष्ट्रीय आयुर्वेद संस्थान से 2 करोड़ लोगों को मिलेगा फायदा

User

By NS Desk | 13-Feb-2019

 Shreepad Yaso Naik

Shreepad Yaso Naik said, 20 million people will benefit from the National Ayurveda Institute

पंचकूला. पंचकुला में खुलने जा रहे राष्ट्रीय आयुर्वेद संस्थान (national institute of ayurveda) के बनने से उत्तर भारत के करीब दो करोड़ लोगों को लाभ मिलेगा. राष्ट्रीय आयुर्वेद संस्थान के शिलान्यास समारोह में केंद्रीय मंत्री श्रीपद यसो नाइक ने ये बात कही. गौरतलब है कि इस संस्थान का शिलान्यास प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कुरुक्षेत्र में आयोजित कार्यक्रम में डिजिटल लिंक के माध्यम से किया. संस्थान का डिजिटल शिलान्यास समारोह श्री माता मनसा देवी कांप्लेक्स में सीधा प्रसारित किया गया।

केंद्रीय मंत्री श्रीपद यसो नाइक ने कहा कि आयुष व योग के क्षेत्र में अपार संभावनाएं बढ़ी है. इसी को देखते हुए अब आयुष अनुसंधान के लिए विदेशों से भी एमओयू की पेशकश आ रही है, जिससे रिसर्च में और बेहतर अवसर मिलेंगे. उन्होंने कहा कि इस परियोजना पर लगभग 270.50 करोड़ रुपये की लागत आएगी। इसमें 250 बेड के आईपीडी अस्पताल के साथ आयुर्वेद उपचार, शिक्षा और अनुसंधान के लिए युवाओं को बेहतर अवसर मिलेंगे। इस राष्ट्रीय स्तर संस्थान में हर साल 500 से अधिक छात्रों को यूजी, पीजी और पीएचडी की सुविधाएं मिलेंगी।

लगभग 24 माह में बनकर तैयार होने वाले इस संस्थान में छात्रावास, स्टाफ क्वार्टर और गेस्ट हाउस आदि का निर्माण किया जाएगा। उन्होंने कहा कि इसके लिए स्थलाकृति और भू-तकनीकी की जांच पूरी कर ली गई है। अवधारणा योजना, मास्टर प्लान और वास्तु चित्र को अंतिम रूप दिया जा रहा है। भवन का निर्माण शीघ्र ही शुरू किया जाएगा। उन्होंने हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल और उनकी टीम के साथ माता मनसा देवी पूजा स्थल बोर्ड का भी आभार व्यक्त किया। क्योंकि बोर्ड ने ही संस्थान के लिए लगभग 20 एकड़ जमीन मुहैया करवाई तभी इसको अमलीजामा पहनाया गया है। इस संस्थान के बनने से हरियाणा ही नही बल्कि हिमाचल, पंजाब के साथ-साथ ट्राईसिटी के लगभग दो करोड़ लोगों को सीधा लाभ मिलेगा तथा युवाओं को रोजगार के अवसर भी उपलब्ध होंगे।

उन्होंने आश्वस्त किया कि इसके लिए धन की कोई कमी नहीं आने दी जाएगी तथा इसे शीघ्र ही पूरा करने का प्रयास भी किए जाएंगे। इस तरह के संस्थान दिल्ली व अन्य राज्यों में बनाए जा रहे हैं। संस्थान के निर्माण से हमारी आयुर्वेदिक प्राचीन पद्धति को बढ़ावा मिलने के साथ लोगों की आस्था भी बढ़ती जा रही है।

consult with ayurveda doctor.
डिस्क्लेमर - लेख का उद्देश्य आपतक सिर्फ सूचना पहुँचाना है. किसी भी औषधि,थेरेपी,जड़ी-बूटी या फल का चिकित्सकीय उपयोग कृपया योग्य आयुर्वेद चिकित्सक के दिशा निर्देश में ही करें।
Subscribe to our Newsletters