Looking for
  • Home
  • Blogs
  • NirogStreet Newsनिरोगस्ट्रीट की संगोष्ठी में चिकित्सकों ने कहा,आयुर्वेद है सबसे तेज

निरोगस्ट्रीट की संगोष्ठी में चिकित्सकों ने कहा,आयुर्वेद है सबसे तेज

User

By NS Desk | 04-Feb-2019

National seminar on emergency management through Ayurveda

आयुर्वेद की मदद से आपातकाल चिकित्सा - Emergency Management through Ayurveda

नोयडा। निरोगस्ट्रीट द्वारा आयुर्वेद को लेकर आयोजित राष्ट्रीय संगोष्ठी कल नोयडा के जेपी अस्पताल में सफलता पूर्वक संपन्न हुआ। इसमें आयुर्वेद के द्वारा इमरजेंसी मैनेजमेंट पर वक्ताओं ने अपनी बात रखी। इस मौके पर देश के जाने-माने वैद्य अच्युतानंद त्रिपाठी पूरे सत्र के दौरान न केवल मौजूद रहे, बल्कि समय-समय पर उन्होंने आयुर्वेद चिकित्सा और औषधियों से संबंधित ज्ञान को भी सभा में उपस्थित चिकित्सकों और छात्रों से बांटा। उन्होंने कहा कि ये विषय बेहद समसामयिक है और यदि इसपर गंभीरता से विचार किया जाए तो इससे आयुर्वेद चिकित्सा का भला होगा.

डॉ. नवीन चौहान ने क्षारसूत्र पर अपनी बात रखी और किस तरह से उसका मैनेजमेंट किया जाए, इसे विस्तार से बताया जबकि डॉ. आँचल माहेश्वरी ने पंचकर्म के द्वारा रोगियों को तुरंत राहत देने के उपायों पर बात की। निरोगस्ट्रीट की तरफ से डॉ. अभिषेक गुप्ता ने आपातकालीन प्रबंधन (emergency management through ayurveda) पर विस्तार से चर्चा की और पावर पॉइंट प्रेजेंटेशन की मदद से उदाहरण समेत इसे समझाया। इस दौरान पूछे गए प्रश्नों का उत्तर भी उन्होंने दिया। इसी मसले पर सीताराम आयुर्वेदिक चैरिटेबल फाउंडेशन की डायरेक्टर डॉ. वंदना गुप्ता ने भी अपनी बात रखी।

डॉ. एम शाहिद ने मर्म चिकित्सा के द्वारा रोगी को तुरंत राहत देने के उपायों को लाइव डेमो के जरिये दिखाया। उन्होंने कुछ ऐसे वीडियो दिखाए जिसमें मर्म चिकित्सा के जरिये रोगियों को कुछ मिनटों में राहत मिली। मिला-जुला कर संगोष्ठी में यही स्वर उभरा कि आपातकालीन चिकित्सा के मामले में भी आयुर्वेद है सबसे तेज, बस इसे थोड़ा व्यवस्थित बनाने की जरूरत है। निरोगस्ट्रीट के फाउंडर और सीईओ राम एन. कुमार ने भी इस दौरान आयुर्वेद को व्यवस्थित करने की बात पर प्रकाश डाला और निरोगस्ट्रीट के उद्देश्य को रेखांकित किया।

कार्यक्रम में देश भर से आये आयुर्वेद के चिकित्सक और छात्रों ने उत्साह से हिस्सा लिया। परिचर्चा के दौरान सवाल-जवाब भी हुए। कार्यक्रम के अंत में सर्टिफिकेट भी दिया गया। कार्यक्रम का संचालन डॉ. रंजन ने किया और बोलने के अपने खास अंदाज से उन्होंने कार्यक्रम को जीवंत बनाये रखा। इस मौके पर इंटीग्रेटिड मेडिकल एसोसियेशन (IMA-AYUSH) के पदाधिकारी भी मौजूद रहे और नोयडा व गाजियाबाद के नए अध्यक्ष व उनकी टीम के सदस्यों के नाम की भी घोषणा की। 

consult with ayurveda doctor.
डिस्क्लेमर - लेख का उद्देश्य आपतक सिर्फ सूचना पहुँचाना है. किसी भी औषधि,थेरेपी,जड़ी-बूटी या फल का चिकित्सकीय उपयोग कृपया योग्य आयुर्वेद चिकित्सक के दिशा निर्देश में ही करें।
Subscribe to our Newsletters