Looking for
  • Home
  • Blogs
  • NirogStreet Newsएलर्ट - बिहार में कोरोनावायरस के 89 संदिग्धों की पहचान, निगरानी में भेजे गए

एलर्ट - बिहार में कोरोनावायरस के 89 संदिग्धों की पहचान, निगरानी में भेजे गए

User

By NS Desk | 04-Mar-2020

बिहार में कोरोनावायरस ( तस्वीर का स्रोत - बिहार तक )

कोरोनावायरस : एहतियातन निगरानी में रखे गए ईरान से लौटे 14 लोग, नीतीश ने की बैठक : coronavirus in bihar in hindi 
 
पटना, 5 मार्च | बिहार में स्वास्थ्य विभाग कोरोनावायरस को लेकर अलर्ट पर है। इसी क्रम में हाल ही में ईरान से बिहार लौटे लोगों को निगरानी में रखा गया है। इस बीच, बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बुधवार की रात उच्चस्तरीय बैठक कर कोरोना को लेकर उत्पन्न स्थितियों की समीक्षा की। बिहार के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय ने बताया कि बिहार में अभी 89 लोगों को निगरानी में रखा गया है, जिसमें ईरान से आए लोग भी शामिल हैं।

उन्होंने बताया कि अभी तक राज्य से 48 लोगों के रक्त के नमूनों की जांच की गई है, जिसमें से 44 निगेटिव पाए गए हैं। तीन लोगों की रिपोर्ट अभी नहीं आई है। वहीं एक व्यक्ति के रक्त के नमूने खराब हो गए, जिसकी वजह से नमूने दोबारा भेजा गया है। उन्होंने कहा कि बिहार में वायरस से संक्रमण को लेकर अब तक कोई भी रिपोर्ट पॉजिटिव नहीं आई है।

इस बीच, स्वास्थ्य विभाग के सूत्रों के मुताबिक, ईरान से आए 14 लोग, जिसमें सिवान के पांच और गोपालगंज के चार लोग शामिल हैं, उनको निगरानी में रखा गया है। इसके अलावा बक्सर व आरा में भी ईरान से लौटे लोगों को एहतियातन निगरानी में रखा गया है।

इधर, मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बुधवार को उच्चस्तरीय समीक्षा बैठक के बाद कहा कि कोरोना से घबराने की जरूरत नहीं है। मुख्यमंत्री ने सभी जिलाधिकारी को इस संबंध में सभी ग्राम पंचायतों में ग्राम सभा की तत्काल बैठक करने का निर्देश दिया तथा कोरोना से सावधानी बरतने की जानकारी देने के लिए कहा गया है। (आईएएनएस)

और पढ़े - गोमूत्र और गोबर से कोराना वायरस से बचाव, जानिये चिकित्सक की राय 

बिहार : कोरोना के मद्देनजर नेपाल से आने वालों की हो रही जांच

बिहार में कोराना वायरस के खतरों को देखते हुए नेपाल से आने वाले लोगों की जांच की जा रही है। इसके अलावा गया और पटना के हवाईअड्डे पर भी यात्रियों की जांच की जा रही है। कोरोना के संदिग्ध मरीजों को निगरानी में रखा जा रहा है। बिहार के स्वास्थ्य विभाग के एक अधिकारी ने बुधवार को बताया कि नेपाल से बिहार में प्रवेश करने वाले सभी मुख्य रास्ते पर आने वाले लोगों की निगरानी की जा रही है तथा संदिग्धों की जांच की जा रही है। देश के विभिन्न हिस्सों में कोरोना के मरीजों की पुष्टि होने के बाद स्वास्थ्य विभाग ने सभी सरकारी अस्पतालों को अलर्ट कर दिया है।

कोरोना वायरस से पीड़ित मरीजों की पहचान के लिए पटना और गया हवाईअड्डे पर विशेष नजर रखी जा रही है। इन दोनों हवाईअड्डे पर अब तक 16 हजार से अधिक यात्रियों की जांच की गई है। इनमें एक भी यात्री में कोरोना के संदिग्ध लक्षण नहीं पाए गए हैं।

स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक, बिहार में अब तक कोरोना के 121 संदिग्ध मरीजों की पहचान हुई है। इनमें 26 मरीजों ने 14 दिनों की पर्यवेक्षण अवधि को पूरा कर लिया है, इसलिए इन पर से निगरानी हटा ली गई है। अन्य संदिग्ध मरीजों को 'होम सर्विलांस' पर रखकर निगरानी की जा रही है।

बिहार के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय ने बताया कि बिहार से जितने भी संदिग्ध लोगों के रक्त के नमूने जांच में भेजे गए हैं, उसमें सभी निगेटिव पाए गए हैं। बिहार का स्वास्थ्य विभाग पूरी तरह अलर्ट है।

कोरोना वायरस को लेकर पटना मेडिकल कॉलेज अस्पताल (पीएमसीएच) को भी अलर्ट पर रखा गया है। पीएमसीएच के इमरजेंसी वार्ड में अलग से आइसोलेशन वार्ड बनाया गया है। इसके अलावा गया के मगध मेडिकल कॉलेज अस्पताल में भी आइसोलेशन वार्ड बनाया गया है।

 

consult with ayurveda doctor.
डिस्क्लेमर - लेख का उद्देश्य आपतक सिर्फ सूचना पहुँचाना है. किसी भी औषधि,थेरेपी,जड़ी-बूटी या फल का चिकित्सकीय उपयोग कृपया योग्य आयुर्वेद चिकित्सक के दिशा निर्देश में ही करें।
Subscribe to our Newsletters