Looking for
  • Home
  • Blogs
  • NirogStreet Newsचरक संहिता पर आयुर्वेद डायलॉग, डॉ. बी.एम. त्रिपाठी ने रखी अपनी बात

चरक संहिता पर आयुर्वेद डायलॉग, डॉ. बी.एम. त्रिपाठी ने रखी अपनी बात

User

By NS Desk | 03-Jun-2019

दिल्ली. निरोग स्ट्रीट डायलॉग (3) : आयुर्वेद की सही जानकारी लेने के लिए श्रद्धा, समर्पण, संस्कृत और संहिताओं का ज्ञान जरुरी है. भाषा से भाव बदल जाता है और भाव बदलने से मतलब बदल जाता है. इसलिए संस्कृत में आयुर्वेद को समझना जरुरी है. पहले गुरु-शिष्य की परम्परा थी. उस परम्परा में गुरु जंगलों में ले जाकर शिष्य को विविध औषधियों की पहचान कराते थे. लेकिन अब गुरु-शिष्य की परम्परा नहीं रही. इससे प्रैक्टिकल अनुभव कम मिलता है. यह आज के आयुर्वेद की पढ़ाई में एक बड़ी कमी है जिसे दूर करने की जरुरत है. यह बातें चरक आयुर्वेद क्लासेस के डायरेक्टर डॉ. बी. एम. त्रिपाठी ने दिल्ली में हुए निरोग स्ट्रीट के तीसरे आयुर्वेद डायलॉग के दौरान कही.

वे चरक संहिता पर बोल रहे थे. इस आयुर्वेद डायलॉग में प्रकाश इंस्टिट्यूट ऑफ आयुर्वेद के डॉ. चंद्रशेखर बंगरवार ने भी शिरकत की और इस संदर्भ में कई महत्वपूर्ण बातें रखी. इस दौरान सवाल जवाब भी हुए. पूरी बातचीत को फेसबुक पर भी लाइव किया गया. आयुर्वेद डायलॉग की शुरुआत में राष्ट्रीय आयुर्वेद संस्थान के डॉ. गोविंद पारीक को भी याद किया गया. गौरतलब है कि चंद दिनों पहले ही उनका आकस्मिक निधन हो गया था. कार्यक्रम से जुड़ा स्लाइड शो -

consult with ayurveda doctor.
डिस्क्लेमर - लेख का उद्देश्य आपतक सिर्फ सूचना पहुँचाना है. किसी भी औषधि,थेरेपी,जड़ी-बूटी या फल का चिकित्सकीय उपयोग कृपया योग्य आयुर्वेद चिकित्सक के दिशा निर्देश में ही करें।
Subscribe to our Newsletters