Looking for
  • Home
  • Blogs
  • NirogStreet Newsसंक्रमण के कम से कम 9 महीने बाद भी कोविड एंटीबॉडीज बनी रहती है: अध्ययन

संक्रमण के कम से कम 9 महीने बाद भी कोविड एंटीबॉडीज बनी रहती है: अध्ययन

User

By NS Desk | 19-Jul-2021

Covid antibody

लंदन। शोधकतार्ओं ने पाया है कि सार्स कोव 2 से संक्रमण के नौ महीने बाद भी एंटीबॉडी का स्तर उच्च रहता है, जो वायरस कोविड का कारण बनता है, चाहे वह रोगसूचक हो या स्पशरेन्मुख।

पडुआ विश्वविद्यालय (इटली) और इंपीरियल कॉलेज, लंदन के शोधकतार्ओं ने सार्स कोव 2 के संक्रमण के लिए फरवरी, मार्च 2020 में इटली में वीओ के 3,000 निवासियों में से 85 प्रतिशत से अधिक का परीक्षण किया और मई में उनका नवंबर 2020 वायरस के खिलाफ एंटीबॉडी के लिए फिर से परीक्षण किया।

टीम ने पाया कि फरवरी और मार्च में संक्रमित हुए 98.8 प्रतिशत लोगों ने नवंबर में एंटीबॉडी का पता लगाने योग्य स्तर दिखाया, और उन लोगों के बीच कोई अंतर नहीं था जो कोविड -19 के लक्षणों से पीड़ित थे और जो लक्षण-मुक्त थे। इसके परिणाम नेचर कम्युनिकेशंस जर्नल में प्रकाशित हुए हैं।

इसके अलावा, जबकि सभी एंटीबॉडी प्रकारों ने मई और नवंबर के बीच कुछ गिरावट देखी, एंटीबॉडी स्तरों को ट्रैक करने के लिए परीक्षण के आधार पर क्षय की दर अलग थी।

टीम ने कुछ लोगों में एंटीबॉडी के स्तर में वृद्धि के मामले भी पाए, जो वायरस के साथ संभावित पुन: संक्रमण का सुझाव देते हैं, जिससे प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ावा मिलता है।

इंपीरियल में संक्रामक रोग विश्लेषण एमआरसी सेंटर फॉर ग्लोबल के प्रमुख लेखक इलारिया डोरिगट्टी ने कहा, हमें कोई सबूत नहीं मिला कि रोगसूचक और स्पशरेन्मुख संक्रमणों के बीच एंटीबॉडी का स्तर काफी भिन्न होता है, यह सुझाव देता है कि प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया की ताकत लक्षणों और संक्रमण की गंभीरता पर निर्भर नहीं करती है।

डोरिगट्टी ने कहा कि हालांकि, हमारे अध्ययन से पता चलता है कि एंटीबॉडी का स्तर अलग-अलग होता है, इस्तेमाल किए गए परीक्षण के आधार पर। इसका मतलब है कि दुनिया के विभिन्न हिस्सों में अलग-अलग परीक्षणों और अलग-अलग समय में प्राप्त आबादी में संक्रमण के स्तर के अनुमानों की तुलना करते समय सावधानी बरतने की आवश्यकता है।

टीम ने घर के सदस्यों के संक्रमण की स्थिति की भी जांच की। उन्होंने 4 में से लगभग 1 की संभावना पाई कि सार्स कोव 2 से संक्रमित व्यक्ति संक्रमण को परिवार के किसी सदस्य को देता है और अधिकांश संचरण (79 प्रतिशत) 20 प्रतिशत संक्रमणों के कारण होता है।

यह खोज इस बात की पुष्टि करती है कि संक्रमित लोगों द्वारा उत्पन्न माध्यमिक मामलों की संख्या में बड़े अंतर हैं, अधिकांश संक्रमणों से आगे कोई संक्रमण नहीं होता है और संक्रमणों की एक अल्पसंख्यक बड़ी संख्या में संक्रमण पैदा करती है।

शोधकतार्ओं ने कहा कि इससे पता चलता है कि व्यवहार संबंधी कारक महामारी नियंत्रण के लिए महत्वपूर्ण हैं, और शारीरिक गड़बड़ी, साथ ही साथ संपर्कों और मास्क पहनने की संख्या को सीमित करना, अत्यधिक टीकाकरण वाली आबादी में भी, बीमारी को प्रसारित करने के जोखिम को कम करने के लिए महत्वपूर्ण है। (आईएएनएस)

यह भी पढ़े ► मां के दूध पर कोविड का कोई असर नहीं : अध्ययन

consult with ayurveda doctor.
डिस्क्लेमर - लेख का उद्देश्य आपतक सिर्फ सूचना पहुँचाना है. किसी भी औषधि,थेरेपी,जड़ी-बूटी या फल का चिकित्सकीय उपयोग कृपया योग्य आयुर्वेद चिकित्सक के दिशा निर्देश में ही करें।
Subscribe to our Newsletters