• Home
  • Blogs
  • Herbs and Fruitsअमरुद खायेंगे तो बीमारियों की होगी नो एंट्री

अमरुद खायेंगे तो बीमारियों की होगी नो एंट्री

User

By NS Desk | 02-Feb-2019

 Guava

health benefits of Guava

अमरुद (guava) खाने में स्वादिष्ट होने के साथ-साथ स्वास्थ्य के दृष्टिकोण से भी एक जरुरी फल है. इसमें ढेरों पोषक तत्व होते हैं और ये तकरीबन सभी जगह पाए जाते हैं. हालाँकि मूल रूप से ये दक्षिण अमेरिका में पाया जाना वाला फल है, संभवतः पुर्तगाली इसे भारत में लेकर आए थे. अमरुद में ढेरों औषधीय गुण होते हैं. भोजन करने के बाद इसे खाना विशेष फायदेमंद होता है. इसका सिर्फ फल ही लाभदायक नहीं है बल्कि इसके पत्ते और छाल भी आयुर्वेदिक औषधि के रूप में काम आते है. दांत के रोगों के लिए तो अमरूद रामबाण साबित होता है. अमरूद के पत्तों को चबाने से दांतों के कीड़ा और दांतों से सम्बंधित रोग भी दूर हो जाते हैं. इसके अलावा भी इसमें कई और औषधीय गुण होते हैं जो बीमारियों को दूर भगाते हैं. सर्दियों में इसे खाना विशेष फायदेमंद होता है. अमरुद में प्रोटीन , कार्बोहाइड्रेट तथा फाइबर प्रचुर मात्रा में होते हैं. विटामिन “सी” का भी यह अच्छा स्रोत है. आइये जानते हैं अमरुद खाने के फायदे -

अमरुद खाने के फायदे - Guava Health Benefits in Hindi 

1- पेट के लिए अच्छा : अमरुद खाना पेट के लिए अच्छा है. इसे खाने से पेट की कई समस्याओं से निजात मिलने के अलावा कब्ज भी दूर होता है. अमरुद में पाया जाने बाला रेशा या फाइवर मेटाबॉलिज्म पेट के लिए अच्छा होता है.

2- हिमोग्लोबीन की कमी को दूर करता है : अमरूद खाने से शरीर में हीमोग्लोबिन की कमी दूर होती है. पका अमरुद इसमें ख़ास उपयोगी सिद्ध होता है. एनीमिया से पीडि़तों को भी अमरूद खाने की सलाह दी जाती है.

3- दांत और मुंह के लिए उपयोगी : दांत के दर्द और मुंह के दुर्गन्ध में अमरुद की पत्तियों से काफी फायदा होता है. अमरूद के पत्तों को चबाने से दांतों के कीड़ा और दांतों से सम्बंधित कई रोग दूर हो जाते हैं. साथ ही मुंह का दुर्गन्ध भी गायब हो जाता है.

4- हार्मोनल संतुलन : हार्मोनल संतुलन बनाये रखने में भी अमरुद उपयोगी है. अमरूद तांबे का एक अच्छा स्रोत है, जो हार्मोन उत्पादन और अवशोषण को नियंत्रित करने में मदद करके चयापचय को विनियमित करने के लिए महत्वपूर्ण है। थायराइड हार्मोन शरीर में ऊर्जा विनियमन और चयापचय में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं. अमरुद खाने से थायराइड की समस्या में आराम मिलता है.

5- प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है : अमरुद में प्रचुर मात्रा में विटामिन 'सी' और एंटीऑक्सिडेंट पाया जाता है. यह हमारी रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाती है और कैंसर समेत कई बीमारियों से हमे बचाता है.

6- वजन कम करने में सहायक : वजन कम करने के इच्छुक लोगों के लिए अमरुद बड़े काम का फल है. अमरुद को डाईट में शामिल करके खाने में प्रोटीन, विटामिन और फाइबर की कमी किए बिना वजन घटाया जा सकता है. अमरुद खाने से पेट भरा-भरा रहता है और भूख महसूस नहीं होती. दूसरी तरफ अमरुद में कॉलेस्ट्राल भी नहीं होता और चीनी की मात्रा भी अपेक्षाकृत कम होती है.

7- डायबिटीज के रोगियों के लिए उपयोगी : अमरुद के सेवन से खून में सूगर का स्तर कम होता है और डायबिटीज नियन्त्रण में रहता है. इसमें काफी मात्रा में फाइबर पाया जाता है जो शूगर को पचाने और इंसुलिन बढ़ाने में मदद करता है.

8- आँखों की ज्योति बढ़ाये : अमरुद में विटामिन ए (vitamin a) पाया जाता है जो आँखों के स्वास्थ्य के लिए जरुरी है. इससे आँखों की ज्योति लंबे समय तक बरकरार रहती है. साथ ही मोतियाबिंद आदि आँखों की बीमारियाँ कम होने की संभावना रहती है. इसके अलावा यह आंखों की कोशिकाओं की रक्षा करने के साथ-साथ आंखों की रोशनी को कम होने से भी रोकता है.

9- ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करे : हार्ट रिसर्च लेबोरेटरी, मेडिकल हॉस्पिटल एंड रिसर्च सेंटर, इंडिया के शोध में कहा गया है कि अमरूद एलडीएल कोलेस्ट्रॉल के स्तर और रक्तचाप को कम करने में मदद करता है। [५] यह भी पता चला है कि जिस भोजन में फाइबर (जैसे परिष्कृत आटा) की कमी होती है वह रक्तचाप को बढ़ाता है। यह फल, फाइबर और हाइपोग्लाइसेमिक से भरपूर होने के कारण, रक्तचाप को कम करने में मदद करता है।

10- मस्तिष्क मजबूत : अमरुद में विटामिन बी 3 और बी 6 पाया जाता है जो स्वस्थ्य मस्तिष्क के लिए जरुरी पोषक तत्व हैं. विटामिन बी 3 रक्त के प्रवाह को को बढ़ाता है जबकि विटामिन बी 6 मस्तिष्क को पोषण प्रदान करता है. अमरूद खाने से मस्तिष्क को आराम और एकाग्रता को बढ़ाने में मदद मिलती है.

यह भी पढ़े ► सीताफल (शरीफा) खाने के 15 फायदे

consult with ayurveda doctor.
डिस्क्लेमर - लेख का उद्देश्य आपतक सिर्फ सूचना पहुँचाना है. किसी भी औषधि,थेरेपी,जड़ी-बूटी या फल का चिकित्सकीय उपयोग कृपया योग्य आयुर्वेद चिकित्सक के दिशा निर्देश में ही करें।
Subscribe to our Newsletters