Looking for
  • Home
  • Blogs
  • CoronaVirus Newsकोविड के ठीक होने के बाद हर छह महीने में जांच करवाएं -शोध

कोविड के ठीक होने के बाद हर छह महीने में जांच करवाएं -शोध

User

By NS Desk | 24-Sep-2021

screened when recover from COVID in hindi

कोविड के ठीक होने के बाद हर छह महीने में जांच करवाएं

कोविड ने गैर-संचारी रोगों के रोगियों के लिए जटिलताओं और स्वास्थ्य जोखिमों को कई गुना बढ़ा दिया है। लगभग 75-80 प्रतिशत कोविड रोगियों को अस्पताल में भर्ती होने की आवश्यकता नहीं होती है। वे घर पर टेलीकंसल्टेशन से ठीक हो सकते हैं, लेकिन कोविड-19 संक्रमण रोगी को दीर्घकालिक दुष्प्रभावों के साथ छोड़ सकता है। ऐसे कई उदाहरण हैं जहां कोविड-19 के लक्षण कई महीनों से बने हुए हैं। फेफड़ों को नुकसान पहुंचाने के अलावा, वायरस तीव्र मायोकार्डियल चोट और हृदय प्रणाली को पुरानी क्षति भी पहुंचा सकता है।

यूरोपियन हार्ट जर्नल में प्रकाशित शोध के अनुसार, कार्डिएक अरेस्ट से पीड़ित कोविड-19 रोगियों की मृत्यु की संभावना उन लोगों की तुलना में अधिक होती है, जो इससे संक्रमित नहीं होते हैं, और विशेष रूप से महिलाओं में इसी कारण से मृत्यु का खतरा अधिक होता है। वायरस सीधे मायोकार्डियम ऊतक के भीतर एसीइ2 रिसेप्टर कोशिकाओं को भंग कर सकता है और सीधे वायरल नुकसान का कारण बन सकता है। कोविड के परिणाम स्वरूप हृदय की मांसपेशियों में सूजन हो सकता है जिसे मायोकार्डिटिस के रूप में जाना जाता है । यदि समय पर ध्यान न दिया जाए तो यह हृदय की विफलता का कारण बन सकता है।

पहले से हृदय रोग से पीड़ित लोगों को अतिरिक्त सावधानी बरतने की जरूरत है। ठीक होने की अवधि के दौरान बड़ी संख्या में रोगियों को कार्डियक अरेस्ट हुआ है, जिसके परिणामस्वरूप अक्सर मृत्यु हो जाती है। विशेषज्ञ सुझाव देते हैं कि भले ही कोविड वायरस कम हो जाए, लेकिन प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया अति-सक्रिय बनी रहती है। यह अक्सर अन्य अंगों पर हमला करती है। यह देखा गया है कि इनमें से लगभग 80 प्रतिशत रोगियों को कोरोना पॉजिटिव परीक्षण के 2-3 सप्ताह बाद दिल का दौरान पड़ा है।

हम कुछ चेतावनी के संकेतों को नजरअंदाज कर देते हैं और जागरूकता की कमी के कारण, कभी-कभी, हम कोविड के दौरान या कोविड से ठीक होने के बाद भी कुछ हृदय संबंधी समस्याओं को रोकने में विफल होते हैं। किसी को कोविड-19 हो जाने के बाद, यदि वह रोगी तेज दिल की धड़कन या धड़कन का अनुभव कर रहा है, तो उसे तुरंत डॉक्टर से संपर्क करने की सलाह दी जाती है क्योंकि हृदय गति में एक अस्थायी वृद्धि भी कई अलग-अलग चीजों का संकेत दे सकती है, जिसमें बहुत बीमार होने के बाद भी शामिल है।

यह सुनिश्चित करना आवश्यक है कि रोगी पर्याप्त तरल पदार्थ पी रहा है, खासकर यदि बुखार है। कभी-कभी, जो लोग कोविड से ठीक हो रहे हैं, उनमें पोट्स (पोस्टुरल ऑर्थोस्टैटिक टैचीकार्डिया सिंड्रोम) नामक स्थिति के लक्षण दिखाई दे सकते हैं। हालाँकि, ढडÝर और उडश्कऊ के विकास के बीच की कड़ी अभी तक स्थापित नहीं हुई है। हालाँकि, पोट्स एक तंत्रिका संबंधी समस्या है, और यह सीधे तौर पर हृदय संबंधी समस्या नहीं है। यह तंत्रिका तंत्र के हिस्से को प्रभावित करता है और हृदय गति और रक्त प्रवाह में बाधा उत्पन्न कर सकता है। खड़े होने पर सिंड्रोम भी तेजी से दिल की धड़कन पैदा कर सकता है।

कोविड रिकवरी के बाद दिल का दौरा पड़ने के कई उदाहरणों ने हृदय स्वास्थ्य की लगातार निगरानी के महत्व पर जोर दिया है। विशेषज्ञों के अनुसार, मधुमेह और उच्च रक्तचाप जैसी पहले से मौजूद स्थितियों वाले उच्च जोखिम वाले व्यक्तियों में ईसीजी, एक्स-रे चेस्ट और लिपिड प्रोफाइल जैसे हृदय परीक्षण हर छह महीने में दोहराए जाने चाहिए ताकि यह पता लगाया जा सके कि हृदय को कोई नुकसान हुआ है या नहीं। नियमित निगरानी के अलावा, कोविड के बाद के रोगियों को सभी आवश्यक पोषक तत्वों से युक्त स्वस्थ आहार का पालन करना चाहिए और मसालेदार, तैलीय, डिब्बाबंद, कृत्रिम मिठास और प्रसंस्कृत स्वाद, या जंक फूड से सख्ती से बचना चाहिए। शारीरिक व्यायाम के लिए समय निकालना, शराब और धूम्रपान को कम करना आवश्यक है। यहां तक कि छोटे से छोटे लक्षणों को भी ध्यान में रखा जाना चाहिए और तुरंत एक विशेषज्ञ चिकित्सक को दिखाना चाहिए।
यह भी पढ़े► कोविड प्रकोप के कारण बच्चों में सीखने की हानि हुई : डॉ. के. कस्तूरीरंगन

consult with ayurveda doctor.
डिस्क्लेमर - लेख का उद्देश्य आपतक सिर्फ सूचना पहुँचाना है. किसी भी औषधि,थेरेपी,जड़ी-बूटी या फल का चिकित्सकीय उपयोग कृपया योग्य आयुर्वेद चिकित्सक के दिशा निर्देश में ही करें।
Subscribe to our Newsletters