Looking for
  • Home
  • Blogs
  • CoronaVirus News3 साल वेंटिलेटर पर बिताने वाले 4 साल के रूसी लड़के को मिला नया फेफड़ा

3 साल वेंटिलेटर पर बिताने वाले 4 साल के रूसी लड़के को मिला नया फेफड़ा

User

By NS Desk | 07-Jul-2021

चेन्नई, 7 जुलाई (आईएएनएस)। एमजीएम हेल्थकेयर में पिछले तीन साल से वेंटिलेटर पर रहा चार साल का एक रूसी बच्चा द्विपक्षीय फेफड़े के ट्रांसप्लांट के बाद अब ठीक है।

रूसी लड़के को फाइब्रोसिंग एल्वोलिटिस का पता चला था जब वह सिर्फ दो महीने का था और उसे वेंटिलेटर पर रखा गया था, क्योंकि उसकी ऑक्सीजन सैचुरेशन बहुत कम थी।

हृदय विज्ञान के अध्यक्ष और निदेशक और हृदय और फेफड़े ट्रांसप्लांट कार्यक्रम के निदेशक के.आर बालकृष्णन ने संवाददाताओं से कहा, उन्होंने तब रूस में छह महीने की उम्र में ट्रेकियोस्टोमी की और आगे के प्रबंधन और रूस में डॉक्टरों द्वारा संदर्भित संभावित फेफड़े के ट्रांसप्लांट के लिए 2018 में चेन्नई में हमारी इकाई में ले जाया गया।

उपयुक्त अंग दाता मिलने तक लड़के को यहां तीन साल तक वेंटिलेटर पर रखा गया था।

एक दो वर्षीय ब्रेन डेड डोनर दिसंबर 2020 में सूरत, गुजरात में उपलब्ध हो गया और अंग को एयरलिफ्ट किया गया और दिसंबर 2020 में एमजीएम हेल्थकेयर में रूसी लड़के का द्विपक्षीय फेफड़े का ट्रांसफर हुआ।

हृदय और फेफड़े ट्रांसप्लांट कार्यक्रम और यांत्रिक संचार सहायता के सह-निदेशक सुरेश राव केजी ने कहा, हमने उसे आईसीयू (इंटेंसिव केयर यूनिट) देखभाल में निगरानी में रखा और यह बताते हुए खुशी हो रही है कि नए ट्रांसफर फेफड़े रोगी में अच्छी प्रतिक्रिया दे रहे हैं। यह एक छोटे बच्चे के लिए वेंटिलेटर पर रखने से पहले सबसे लंबी अवधि में से एक है। दुनिया में एक सफल ट्रांसप्लांट और भारत में सबसे कम उम्र का फेफड़े का ट्रांसप्लांट है और एशिया में सबसे कम उम्र का है।

डॉक्टरों के अनुसार, सबसे बड़ी चुनौती बच्चे के लिए उपयुक्त एक छोटा फेफड़ा खोजना था।

--आईएएनएस

एचके/एएनएम

consult with ayurveda doctor.
डिस्क्लेमर - लेख का उद्देश्य आपतक सिर्फ सूचना पहुँचाना है. किसी भी औषधि,थेरेपी,जड़ी-बूटी या फल का चिकित्सकीय उपयोग कृपया योग्य आयुर्वेद चिकित्सक के दिशा निर्देश में ही करें।
Subscribe to our Newsletters