Looking for
  • Home
  • Blogs
  • CoronaVirus News10 प्रतिशत से अधिक कोविड पॉजिटिविटी दर वाले जिलों को सभाओं को प्रतिबंधित करना चाहिए : केंद्र

10 प्रतिशत से अधिक कोविड पॉजिटिविटी दर वाले जिलों को सभाओं को प्रतिबंधित करना चाहिए : केंद्र

User

By NS Desk | 31-Jul-2021

नई दिल्ली, 31 जुलाई (आईएएनएस)। केंद्र ने शनिवार को कोविड-19 से गंभीर रूप से प्रभावित 10 राज्यों को यह सुनिश्चित करने का निर्देश दिया है कि 10 प्रतिशत से अधिक पॉजिटिविटी दर वाले सभी जिलों में सार्वजनिक समारोहों पर सख्त प्रतिबंध सुनिश्चित किया जाए। आईसीएमआर के मुताबिक, ज्यादातर राज्यों में 80 फीसदी मामले होम आइसोलेशन में थे।

केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने राज्यों के साथ समीक्षा बैठक के दौरान निर्देश जारी किए, जिसमें रोजाना कोविड -19 मामलों में वृद्धि दर्ज की गई थी।

ये राज्य हैं केरल, महाराष्ट्र, कर्नाटक, तमिलनाडु, ओडिशा, असम, मिजोरम, मेघालय, आंध्र प्रदेश और मणिपुर।

इस स्तर पर कोई भी ढिलाई दूसरी लहर में योगदान कर सकती है। उन्होंने मामलों की प्रभावी और सख्ती से निगरानी करने की आवश्यकता पर बल दिया। इन राज्यों में 80 फीसदी से ज्यादा एक्टिव केस होम आइसोलेशन में बताए गए।

भूषण ने राज्यों को 10 प्रतिशत से कम वाले जिलों पर ध्यान केंद्रित करने और टीकाकरण दर में सुधार करने की सलाह दी।

बैठक में मौजूद डीजी आईसीएमआर बलराम भार्गव ने इस तथ्य पर प्रकाश डाला कि 46 जिले 10 प्रतिशत से अधिक सकारात्मक दिखा रहे थे, जबकि अन्य 53 जिले 5 से 10 प्रतिशत के बीच पॉजिटिविटी दिखा रहे थे और राज्यों को अपने टेस्ट में तेजी लाने का निर्देश दिया।

राज्यों को सलाह दी गई थी कि वे जिला-वार रोग प्रसार डेटा के लिए अपने स्वयं के राज्य-स्तरीय सीरो-सर्वेक्षण करें, क्योंकि सर्वेक्षण के समान मजबूत प्रोटोकॉल सुनिश्चित करने के लिए आईसीएमआर के सहयोग से राष्ट्रीय स्तर पर सीरो सर्वेक्षण प्रकृति में विषम था।

राज्यों को सलाह दी गई थी कि वे ज्यादा मामलों की रिपोर्ट करने वाले समूहों में निगरानी करें और पता लगाए गए मामलों और संपर्कों की मैपिंग के आधार पर नियंत्रण क्षेत्रों को परिभाषित करें। बैठक में इन सभी राज्यों को आईसीएमआर दिशानिर्देशों के अनुसार मृत्यु गणना की रिपोर्ट करने की सलाह दी गई थी।

--आईएएनएस

एचके/एएनएम

consult with ayurveda doctor.
डिस्क्लेमर - लेख का उद्देश्य आपतक सिर्फ सूचना पहुँचाना है. किसी भी औषधि,थेरेपी,जड़ी-बूटी या फल का चिकित्सकीय उपयोग कृपया योग्य आयुर्वेद चिकित्सक के दिशा निर्देश में ही करें।
Subscribe to our Newsletters