Looking for
  • Home
  • Blogs
  • CoronaVirus Newsलंबे समय तक कोविड मरीज रहे लोगों के खून में दिखी अनियमितता

लंबे समय तक कोविड मरीज रहे लोगों के खून में दिखी अनियमितता

User

By NS Desk | 12-Jul-2021

लंदन, 12 जुलाई (आईएएनएस)। ब्रिटिश वैज्ञानिकों ने लंबे समय तक कोविड का मरीज रहे लोगों के रक्त में अनियमितता के एक पैटर्न का पता लगाया है, जिसका अग्रिम प्रयोगशाला परीक्षण संभव है।

बीबीसी की रिपोर्ट के मुताबिक, लंदन के इंपीरियल कॉलेज के शोधकर्ताओं ने लंबे समय से कोविड-19 से ग्रसित कुछ लोगों के खून में दुष्ट एंटीबॉडी का एक पैटर्न पाया।

नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ रिसर्च के एलेन मैक्सवेल ने कहा, शुरुआती निष्कर्ष रोमांचक थे।

उन्होंने कहा कि कोविड-19 संक्रमण के बाद कई अलग-अलग चीजें हो सकती हैं और एक ऑटोइम्यून प्रतिक्रिया संदिग्ध तंत्रों में से एक रही है।

कोविड-19 (पीएएससी) के बाद की कोविड स्थिति वाले मरीजों को पोस्ट-एक्यूट सीक्वेल के रूप में जाना जाता है।

यह स्थिति सभी उम्र में, दर्द, सांस लेने में कठिनाई, हाइपरलिपिडिमिया, अस्वस्थता और थकान जैसी कई स्थितियों को कवर कर सकती है। इस समय, लंबे समय तक कोविड की स्थिति रहने का निदान करने के लिए कोई परीक्षण नहीं है।

टीम ने रिपोर्ट में कहा है कि पायलट अध्ययन में दर्जनों लोगों के खून की तुलना की गई और पाया गया कि स्वप्रतिपिंड जल्दी ठीक होने वाले लोगों में मौजूद नहीं थे या जिन्हें कोविड-19 नहीं था।

जबकि मानव प्रतिरक्षा प्रणाली में रोग से लड़ने के लिए एंटीबॉडी बनाने की क्षमता होती है, कभी-कभी शरीर स्वप्रतिपिंड बनाता है, जो स्वस्थ कोशिकाओं पर हमला करता है।

इंपीरियल के प्रमुख शोधकर्ता प्रो. डैनी ऑल्टमैन के हवाले से कहा गया है कि लंबे समय तक कोविड के लक्षणों के पीछे यह ऑटोएंटिबॉडी एक कारण हो सकता है।

इसके अलावा, यह भी संभावना है कि कुछ लोगों में वायरस स्थायी हो सकता है, जबकि अन्य को उनकी प्रतिरक्षा प्रणाली के साथ अन्य समस्याएं हो सकती हैं।

ऑल्टमैन ने कहा, जैसा कि अनुसंधान अभी भी एक प्रारंभिक चरण में है, निष्कर्षो को अभी तक एक सफलता के रूप में वर्णित नहीं किया जा सकता।

--आईएएनएस

एसजीके/एएनएम

consult with ayurveda doctor.
डिस्क्लेमर - लेख का उद्देश्य आपतक सिर्फ सूचना पहुँचाना है. किसी भी औषधि,थेरेपी,जड़ी-बूटी या फल का चिकित्सकीय उपयोग कृपया योग्य आयुर्वेद चिकित्सक के दिशा निर्देश में ही करें।
Subscribe to our Newsletters