Looking for
  • Home
  • Blogs
  • CoronaVirus Newsभोपाल में 15 अगस्त से शुरु होगा निरोगी काया अभियान

भोपाल में 15 अगस्त से शुरु होगा निरोगी काया अभियान

User

By NS Desk | 13-Aug-2021

भोपाल, 13 अगस्त (आईएएनएस)। बीमारी इंसानी जीवन को मुसीबत में डाल देती है और अगर बीमारी का समय पर इलाज न हो तो वह और भी गंभीर रुप ले लेती है। मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में असंचारी (गंभीर) रोगों का पता लगाने और उनका समय पर उपचार हेा इसको ध्यान में रखकर निरोगी काया अभियान 15 अगस्त से शुरू किया जा रहा है।

असंचारी रोगों (नान-कम्युनिकेवल डिसीज) की स्क्रीनिंग हेतु निरोगी काया अभियान का आयोजन 15 अगस्त से 30 सितम्बर की अवधि में किया जाएगा। इस दौरान 30 वर्ष से अधिक उम्र के सभी लोगों की घर-घर जाकर असंचारी रोगों की जानकारी एकत्रित की जाएगी।

अभियान के तहत असंचारी रोगों के मरीजों की बीमारी की प्रारंभिक स्थिति में पहचान कर उन्हें उपचार उपलब्ध करवाना, समाज में असंचारी रोगों के प्रति जागरूकता बढ़ाना एवं जीवन शैली में संशोधन कर असंचारी रोगों से बचाव के तरीकों के बारे में अवगत करवाया जाएगा।

जिला आरोग्यम समिति की बैठक में कलेक्टर अविनाश लवानिया ने कहा, डायबिटिज हाईपरटेंशन एवं कैंसर जैसी बीमारियों की सही समय पर पहचान होना बेहद आवश्यक है। इस हेतु अपनी जीवनशैली, लक्षणों एवं बीमारियों संबंधी सभी जानकारियां स्वास्थ्य कार्यकतार्ओं से साझा करें, जिससे कि उनकी स्क्रीनिंग कर समुचित उपचार उपलब्ध करवाया जा सके।

मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी भोपाल डॉ. प्रभाकर तिवारी ने बताया, अभियान के दौरान चिह्न्ति क्षेत्रों की आशा कार्यकतार्ओं द्वारा संबंधित क्षेत्र में घर-घर जाकर 30 वर्ष से अधिक उम्र के प्रत्येक व्यक्ति का सीबैक फॉर्म भरा जाएगा एवं प्रत्येक परिवार की जानकारी फेमिली फोल्डर में एकत्रित की जाएगी। जीवनशैली एवं रोगों की लाक्षणिकता के आधार पर सीबैक फॉर्म अंक निर्धारित किये गए हैं। चार से अधिक रिस्क स्कोर वाले व्यक्तियों की स्क्रीनिंग प्राथमिकता के आधार पर की जाएगी एवं एन.सी.डी. एप में दर्ज की जाएगी।

आयुष्मान भारत योजनांतर्गत प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों एवं उप-स्वास्थ्य केन्द्रों को हेल्थ एण्ड वेलनेस केन्द्रों के रूप में क्रियाशील किया गया है। जिले के 91 स्वास्थ्य केन्द्रों के परिक्षेत्र में अभियान का संचालन किया जाएगा, जिसमें उप-स्वास्थ्य केन्द्र, शहरी एवं ग्रामीण प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र सम्मिलित हैं। अभियान के दौरान दो लाख 97 हजार लोगों की जांच की जाएगी।

--आईएएनएस

एसएनपी/आरजेएस

consult with ayurveda doctor.
डिस्क्लेमर - लेख का उद्देश्य आपतक सिर्फ सूचना पहुँचाना है. किसी भी औषधि,थेरेपी,जड़ी-बूटी या फल का चिकित्सकीय उपयोग कृपया योग्य आयुर्वेद चिकित्सक के दिशा निर्देश में ही करें।
Subscribe to our Newsletters