Looking for
  • Home
  • Blogs
  • CoronaVirus Newsपैन-कोरोनावियर्स वैक्स विकसित करने के लिए वैज्ञानिकों ने एंटीबॉडी की पहचान की

पैन-कोरोनावियर्स वैक्स विकसित करने के लिए वैज्ञानिकों ने एंटीबॉडी की पहचान की

User

By NS Desk | 08-Aug-2021

न्यूयॉर्क, 8 अगस्त (आईएएनएस)। वैज्ञानिकों ने मानव एंटीबॉडी की खोज की है जो कई अलग-अलग कोरोनावायरस को बेअसर कर सकती है और पैन-कोरोनावायरस वैक्सीन का मार्ग प्रशस्त कर सकती है।

वाशिंगटन विश्वविद्यालय की टीम ने कहा कि ये एंटीबॉडी कुछ लोगों में पाए गए हैं जो कोविड -19 से उबर चुके हैं।

साइंस जर्नल में छपे अध्ययन में ऐसे पांच मानव मोनोक्लोनल एंटीबॉडी पर शोध का वर्णन किया गया है जो कई बीटा-कोरोनावायरस के साथ क्रॉस-रिएक्शन कर सकते हैं।

टीम ने कोविड -19 दीक्षांत दाताओं से कुछ मेमोरी बी कोशिकाओं की जांच की। मेमोरी बी कोशिकाएं श्वेत रक्त कोशिकाएं होती हैं जो उन रोगजनकों को पहचानती हैं और उनका जवाब देती हैं, जिन्होंने पिछली मुठभेड़ के दौरान शरीर पर हमला करने की कोशिश की थी।

पांच आशाजनक एंटीबॉडी में से, वैज्ञानिकों ने एक नामित एस2पी6 पर ध्यान केंद्रित करने का फैसला किया। आणविक संरचना विश्लेषण और कार्यात्मक अध्ययनों से पता चला है कि इस मानव मोनोक्लोनल एंटीबॉडी में प्रभावशाली चौड़ाई थी। यह बीटा-कोरोनावायरस के तीन अलग-अलग उपजातियों को बेअसर करने में सक्षम था। वैज्ञानिकों ने देखा कि ऐसा उसने कोशिका झिल्लियों के साथ जुड़ने की वायरस की क्षमता को बाधित करके किया।

ये एंटीबॉडी इन वायरस के स्पाइक प्रोटीन में स्टेम हेलिक्स नामक एक संरचना को लक्षित करते हैं। स्पाइक प्रोटीन मेजबान कोशिकाओं से आगे निकलने की वायरस की क्षमता के लिए महत्वपूर्ण है।

सिएटल में यूनिवर्सिटी के स्कूल ऑफ मेडिसिन के प्रमुख लेखक डोरा पिंटो ने समझाया, स्पाइक प्रोटीन में स्टेम हेलिक्स कुछ कोरोनवीरस के विकास के दौरान संरक्षित रहा है। इसका मतलब है कि यह आनुवंशिक परिवर्तनों के लिए बहुत कम प्रवण है और विभिन्न कोरोनविर्यूज में समान है।

इनमें चमगादड़ में उत्पन्न होने वाले लोग शामिल हैं जो लोगों में खतरनाक रोगजनक बन गए हैं, और एक अन्य उपजात जो ड्रोमेडरी ऊंटों द्वारा प्रसारित एक गंभीर मानव फेफड़ों की बीमारी का कारण बनती है, साथ ही कुछ अन्य उपजातियां जो सामान्य सामान्य सर्दी के लक्षण पैदा करती हैं।

टीम ने परीक्षण किया कि क्या एस2पी6 स्टेम हेलिक्स एंटीबॉडी सार्स-सीओवी-2 के खिलाफ एक्सपोजर से 24 घंटे पहले हैम्स्टर्स को प्रशासित करके रक्षा कर सकता है। उन्होंने पाया कि इस एंटीबॉडी ने वायरस के प्रवेश को रोककर और अतिरिक्त एंटी-वायरल और वायरस-क्लियरिंग सेलुलर प्रतिरक्षा प्रतिक्रियाओं को बढ़ाकर सार्स-सीओवी-2 के वायरल लोड को कम कर दिया।

पूर्व-महामारी मानव नमूनों के साथ-साथ कोविड-टीकाकरण और कोविड-बरामद व्यक्तियों के प्लाज्मा के अध्ययन का भी विश्लेषण किया गया था कि यह देखने के लिए कि स्टेम-हेलिक्स लक्ष्य एंटीबॉडी कितनी बार दिखाई देते हैं।

सबसे अधिक आवृत्ति उन लोगों में हुई जो कोविड -19 से उबर चुके थे, फिर बाद में उन्हें टीका लगाया गया। कुल मिलाकर, हालांकि, इस अध्ययन के डेटा से पता चलता है कि, जबकि ऐसा होता है, यह सार्स-सीओवी-2 के लिए प्लाज्मा स्टेम-हेलिक्स एंटीबॉडी प्रतिक्रियाओं को प्राप्त करने के लिए अपेक्षाकृत दुर्लभ है।

--आईएएनएस

एसएस/आरजेएस

consult with ayurveda doctor.
डिस्क्लेमर - लेख का उद्देश्य आपतक सिर्फ सूचना पहुँचाना है. किसी भी औषधि,थेरेपी,जड़ी-बूटी या फल का चिकित्सकीय उपयोग कृपया योग्य आयुर्वेद चिकित्सक के दिशा निर्देश में ही करें।
Subscribe to our Newsletters