Looking for
  • Home
  • Blogs
  • CoronaVirus Newsपीएम मोदी ने ऑक्सीजन वृद्धि और उपलब्धता में हुई प्रगति की समीक्षा की (लीड-1)

पीएम मोदी ने ऑक्सीजन वृद्धि और उपलब्धता में हुई प्रगति की समीक्षा की (लीड-1)

User

By NS Desk | 09-Jul-2021

नई दिल्ली, 9 जुलाई (आईएएनएस)। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को देश भर में ऑक्सीजन उत्पादन में बढ़ोतरी और उपलब्धता में हुई प्रगति की स्थिति की समीक्षा की।

अधिकारियों ने प्रधानमंत्री को देश में पीएसए ऑक्सीजन संयंत्रों की स्थापना में हुई प्रगति के बारे में जानकारी दी। देश भर में 1500 से अधिक पीएसए ऑक्सीजन संयंत्रों की स्थापना की जा रही हैं, जिनमें पीएम केयर्स के योगदान से स्थापित संयंत्रों के साथ-साथ विभिन्न मंत्रालयों और सार्वजनिक उपक्रमों द्वारा स्थापित संयंत्र भी शामिल हैं।

पीएम केयर्स के योगदान से स्थापित पीएसए ऑक्सीजन संयंत्र देश के सभी राज्यों और जिलों में स्थापित किए जा रहे हैं। प्रधानमंत्री के प्रमुख सचिव, कैबिनेट सचिव, स्वास्थ्य सचिव, एमओएचयूए सचिव और अन्य प्रमुख अधिकारी भी इस बैठक में मौजूद रहे।

इस दौरान प्रधानमंत्री मोदी को यह जानकारी दी गई कि पीएम केयर्स द्वारा स्थापित होने वाले सभी पीएसए ऑक्सीजन संयंत्र एक बार चालू हो जाएंगे तो 4 लाख से अधिक ऑक्सीजन युक्त बिस्तर स्थापित किए जा सकेंगे।

प्रधानमंत्री ने अधिकारियों को यह सुनिश्चित करने का निर्देश दिया कि इन संयंत्रों को जल्द से जल्द चालू किया जाए और इसके लिए राज्य सरकारों के साथ मिलकर काम किया जाए।

अधिकारियों ने प्रधानमंत्री को बताया कि वे ऑक्सीजन संयंत्रों को जल्द से जल्द चालू कराने के संबंध में राज्य सरकारों के अधिकारियों के साथ नियमित संपर्क में हैं।

प्रधानमंत्री ने अधिकारियों से कहा कि ऑक्सीजन संयंत्रों के संचालन और रखरखाव के बारे में अस्पताल के कर्मचारियों के लिए पर्याप्त प्रशिक्षण सुनिश्चित किया जाए।

उन्होंने अधिकारियों को यह सुनिश्चित करने का भी निर्देश दिया कि प्रत्येक जिले में प्रशिक्षित कर्मचारी उपलब्ध हों। अधिकारियों ने प्रधानमंत्री को बताया कि विशेषज्ञों द्वारा तैयार किया गया एक प्रशिक्षण मॉड्यूल तैयार किया गया है और हमारा लक्ष्य देश में लगभग 8000 व्यक्तियों को प्रशिक्षण देने का है।

प्रधानमंत्री ने यह भी कहा कि हमें स्थानीय और राष्ट्रीय स्तर पर इन ऑक्सीजन संयंत्रों के कार्य प्रदर्शन और कार्यप्रणाली का पता लगाने के लिए आईओटी जैसी उन्नत प्रौद्योगिकी को स्थापित करना चाहिए।

इस दौरान अधिकारियों ने उन्हें ऑक्सीजन संयंत्रों के प्रदर्शन की निगरानी के लिए आईओटी का उपयोग कर रहे एक पायलट के बारे में जानकारी दी

--आईएएनएस

एकेके/आरजेएस

consult with ayurveda doctor.
डिस्क्लेमर - लेख का उद्देश्य आपतक सिर्फ सूचना पहुँचाना है. किसी भी औषधि,थेरेपी,जड़ी-बूटी या फल का चिकित्सकीय उपयोग कृपया योग्य आयुर्वेद चिकित्सक के दिशा निर्देश में ही करें।
Subscribe to our Newsletters