Looking for
  • Home
  • Blogs
  • CoronaVirus Newsथाईलैंड का स्थानीय रूप से उत्पादित एस्ट्राजेनेका वैक्सीन अपने लक्ष्य को पूरा करने में विफल रहा

थाईलैंड का स्थानीय रूप से उत्पादित एस्ट्राजेनेका वैक्सीन अपने लक्ष्य को पूरा करने में विफल रहा

User

By NS Desk | 16-Jul-2021

बैंकॉक, 16 जुलाई (आईएएनएस)। थाईलैंड के सार्वजनिक स्वास्थ्य मंत्रालय और एस्ट्राजेनेका कोविड-19 वैक्सीन के स्थानीय निर्माता दिसंबर से मई 2022 तक 61 मिलियन खुराक की डिलीवरी बढ़ाने पर सहमत हुए हैं। ये जानकारी उप जन स्वास्थ्य मंत्री साथित पिटुचा ने दी।

समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, गुरुवार को एक बयान में, साथित ने कहा कि स्थानीय रूप से उत्पादित टीके की विस्तारित डिलीवरी की तारीख की आवश्यकता थी क्योंकि मासिक आपूर्ति की मात्रा पहले की योजना के अनुसार हासिल नहीं की जा सकती थी।

निर्माता सियाम बायोसाइंस द्वारा एस्ट्राजेनेका वैक्सीन की प्रारंभिक डिलीवरी योजना मासिक किस्त के आधार पर थी, जिसकी शुरूआत जून में छह मिलियन खुराक के साथ हुई थी, इसके बाद जुलाई और नवंबर के बीच हर महीने 10 मिलियन खुराक और दिसंबर में पांच मिलियन खुराक दी गई थी।

साथित ने पुष्टि की सियाम बायोसाइंस के पास मासिक रूप से 15 मिलियन खुराक बनाने की क्षमता है और यह थाईलैंड को अपने उत्पादन का 40 प्रतिशत प्रदान करने के लिए सहमत हो गया है।

उन्होंने यह भी कहा कि निकट भविष्य में क्षमता बढ़ाई जा सकती है।

टीके की देर से डिलीवरी थाईलैंड में पहले से ही सुस्त टीकाकरण गति को और बाधित करेगी।

देश ने इस साल के अंत तक अपनी लगभग 70 मिलियन आबादी में से 70 प्रतिशत को टीका लगाने की योजना बनाई है।

हालांकि, आज तक, थाईलैंड ने केवल लगभग 13.5 मिलियन खुराकें दी हैं, जिसकी 5 प्रतिशत से भी कम आबादी ने पूरी तरह से टीकाकरण किया है।

टीकाकरण की प्रगति में देरी और अत्यधिक संक्रामक डेल्टा संस्करण द्वारा प्रेरित संक्रमणों में वृद्धि के कारण, देश कथित तौर पर स्थानीय रूप से उत्पादित एस्ट्राजेनेका वैक्सीन के निर्यात को सीमित करने पर विचार कर रहा था।

थाईलैंड ने अब तक 3,81,907 पुष्टिकृत कोरोनावायरस मामलों और 3,099 मौतों को दर्ज किया है।

--आईएएनएस

एसएस/आरजेएस

consult with ayurveda doctor.
डिस्क्लेमर - लेख का उद्देश्य आपतक सिर्फ सूचना पहुँचाना है. किसी भी औषधि,थेरेपी,जड़ी-बूटी या फल का चिकित्सकीय उपयोग कृपया योग्य आयुर्वेद चिकित्सक के दिशा निर्देश में ही करें।
Subscribe to our Newsletters