Looking for
  • Home
  • Blogs
  • CoronaVirus Newsडॉल्फिन बड़े होने पर इंसानों की तरह कम दर से जलाती है कैलोरी

डॉल्फिन बड़े होने पर इंसानों की तरह कम दर से जलाती है कैलोरी

User

By NS Desk | 13-Aug-2021

न्यूयॉर्क, 13 अगस्त (आईएएनएस)। मनुष्य ही एकमात्र ऐसी प्रजाति नहीं है, जिसका चयापचय उम्र के साथ धीमा हो जाता है।

ड्यूक यूनिवर्सिटी के नेतृत्व वाले एक अध्ययन में पाया गया है कि बॉटलनोज डॉल्फिन बड़े होने पर कम दर पर कैलोरी जलाती है। ठीक वैसे ही, जैसे हम करते हैं।

ड्यूक में विकासवादी नृविज्ञान में पोस्ट डॉक्टरल सहयोगी रेबेका रिंबैक ने कहा, यह पहली बार है, जब वैज्ञानिकों ने मनुष्यों के अलावा किसी अन्य बड़े शरीर वाली प्रजातियों में उम्र से संबंधित चयापचय मंदी को मापा है। हम आहार और जीवनशैली के अलावा कारकों पर प्रकाश डाल सकते हैं, जो लोगों में उम्र से संबंधित वजन बढ़ने का कारण बनते हैं।

टीम ने पाया कि पानी वाली दुनिया में रहने के बावजूद, बॉटलनोज डॉल्फिन अपने आकार के अन्य समुद्री स्तनपायी की अपेक्षा प्रतिदिन 17 प्रतिशत कम ऊर्जा जलाती है।

वैज्ञानिकों ने लोगों में चयापचय उम्र बढ़ने के कुछ समान लक्षणों को भी नोट किया। अध्ययन में पाया गया कि सबसे पुरानी डॉल्फिन 40 के दशक में, अपने शरीर के वजन की अपेक्षा 22 प्रतिशत से 49 प्रतिशत कम कैलोरी का उपयोग करती थीं। मनुष्यों के समान, उनमें अधिक कैलोरी मांसपेशियों के बजाय वसा का रूप लेकर समाप्त हो गई। 40 साल की उम्र में डॉल्फिन के शरीर में वसा का प्रतिशत उनके 20 साल से कम उम्र के समकक्षों की तुलना में 2.5 गुना अधिक था।

शोधकर्ताओं ने दो समुद्री स्तनपायी सुविधाओं, फ्लोरिडा में डॉल्फिन रिसर्च सेंटर और हवाई में डॉल्फिन क्वेस्ट में रहने वाले 10 से 45 वर्ष की आयु के 10 बॉटलनोज डॉल्फिन का अध्ययन किया।

उनकी औसत दैनिक चयापचय दर को मापने के लिए टीम ने दोगुनी लेबल वाली जल विधि का उपयोग किया। इस विधि का उपयोग 1980 के दशक से मनुष्यों में ऊर्जा व्यय को मापने के लिए उपयोग किया जाता है। यह एक ऐसी विधि है, जिसमें जानवरों को कुछ औंस पानी पीने के लिए दिया जाता है, जिसमें स्वाभाविक रूप से हाइड्रोजन और ऑक्सीजन के भारी रूपों को जोड़ा जाता है, और फिर जानवरों को फ्लश करने में कितना समय लगता है, इस पर नजर रखी गई।

जैसे मनुष्य रक्त संचार के लिए अपनी बाहों को फैलाते हैं, इन सुविधाओं में डॉल्फिन स्वेच्छा से अपनी पूंछ के पंखों को पानी से बाहर निकालती हैं, ताकि उनकी देखभाल करने वाले अपने नियमित जांच के हिस्से के रूप में रक्त या मूत्र एकत्र कर सकें।

रक्त या मूत्र में भारी हाइड्रोजन और ऑक्सीजन परमाणुओं के स्तर का विश्लेषण करके, टीम यह गणना करने में सक्षम थी कि डॉल्फिन प्रत्येक दिन कितनी कार्बन डाइऑक्साइड का उत्पादन करती है और इस प्रकार वे अपने जीवन के दौरान कितनी कैलोरी जला रही थी।

--आईएएनएस

एसजीके/एएनएम

consult with ayurveda doctor.
डिस्क्लेमर - लेख का उद्देश्य आपतक सिर्फ सूचना पहुँचाना है. किसी भी औषधि,थेरेपी,जड़ी-बूटी या फल का चिकित्सकीय उपयोग कृपया योग्य आयुर्वेद चिकित्सक के दिशा निर्देश में ही करें।
Subscribe to our Newsletters