Looking for
  • Home
  • Blogs
  • CoronaVirus Newsडीसीजीआई ने कोवैक्सिन और कोविशील्ड के मिश्रण पर अध्ययन को मंजूरी दी, वेल्लूर में हुआ परीक्षण

डीसीजीआई ने कोवैक्सिन और कोविशील्ड के मिश्रण पर अध्ययन को मंजूरी दी, वेल्लूर में हुआ परीक्षण

User

By NS Desk | 11-Aug-2021

नई दिल्ली, 11 अगस्त (आईएएनएस)। ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (डीसीजीआई) ने कोविशील्ड और कोवैक्सिन टीकों के मिश्रण पर एक अध्ययन करने की मंजूरी दे दी है। देश भर में कोरोनावायरस के खिलाफ बड़े पैमाने पर टीकाकरण अभियान को बढ़ावा देने के लिए यह कदम उठाया गया है।

डीसीजीआई ने कहा है कि वेल्लूर में क्रिश्चियन मेडिकल कॉलेज द्वारा इसका अध्ययन और नैदानिक परीक्षण किया जाएगा।

अध्ययन का उद्देश्य यह पता लगाना है कि क्या एक व्यक्ति को दो अलग-अलग वैक्सीन शॉट्स दिए जा सकते हैं - एक कोविशील्ड और कोवैक्सिन में से प्रत्येक को एक ही वैक्सीन के जुड़वां शॉट्स को प्रशासित करने के मौजूदा अभ्यास के बजाय कोरोनावायरस बीमारी के खिलाफ पूरी तरह से टीका लगाया जा सकता है।

केंद्रीय औषधि मानक नियंत्रण संगठन (सीडीएससीओ) की एक विषय विशेषज्ञ समिति ने 29 जुलाई को दो शॉट्स के मिश्रण पर यह अध्ययन करने की सिफारिश की थी।

विशेषज्ञ समिति ने सीएमसी, वेल्लूर को चरण 4 नैदानिक परीक्षण आयोजित करने की अनुमति देने की सिफारिश की, जो 300 स्वस्थ स्वयंसेवकों पर कोवैक्सिन और कोविशील्ड की एक खुराक देकर अध्ययन कर सकता है।

हालांकि, टीकों के मिश्रण पर अध्ययन के लिए डीसीजीआई की मंजूरी भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) के हालिया अध्ययन से अलग है, जिसमें निष्कर्ष निकाला गया कि दो अलग-अलग शॉट्स का संयोजन सुरक्षित और प्रभावी है।

आईसीएमआर ने कोविशील्ड और कोवैक्सिन के आकस्मिक मिश्रण का विश्लेषण किया है।

--आईएएनएस

एमएसबी/आरजेएस

consult with ayurveda doctor.
डिस्क्लेमर - लेख का उद्देश्य आपतक सिर्फ सूचना पहुँचाना है. किसी भी औषधि,थेरेपी,जड़ी-बूटी या फल का चिकित्सकीय उपयोग कृपया योग्य आयुर्वेद चिकित्सक के दिशा निर्देश में ही करें।
Subscribe to our Newsletters