Looking for
  • Home
  • Blogs
  • CoronaVirus Newsजीका रिपोर्ट आने के बाद महाराष्ट्र पहुंची केंद्रीय टीम

जीका रिपोर्ट आने के बाद महाराष्ट्र पहुंची केंद्रीय टीम

User

By NS Desk | 02-Aug-2021

नई दिल्ली, 2 अगस्त (आईएएनएस)। केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ने जीका वायरस के एक मामले की निगरानी के लिए महाराष्ट्र में एक टीम भेजी है और कोविड-19 के प्रकोप के बीच प्रभावी प्रबंधन में उद्धव ठाकरे सरकार की सहायता की है।

पुणे शहर ने जीका मामले की सूचना दी, पड़ोसी केरल ने कुछ रिपोर्ट की है।

महाराष्ट्र ने रविवार को जीका वायरस संक्रमण का पहला मामला दर्ज किया। स्वास्थ्य अधिकारियों ने रविवार को कहा कि पुणे जिले के पुरंदर इलाके की एक 50 वर्षीय महिला ने भी चिकनगुनिया के लिए पॉजिटिव टेस्ट किया। राज्य के अधिकारियों ने लोगों से घबराने और सुरक्षा सावधानियों का पालन करने की अपील की है।

पहले से जारी कोरोनावायरस महामारी के बीच जीका वायरस के पहले मामले ने केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय को तीन सदस्यीय विशेषज्ञ टीम को भेजने के लिए प्रेरित किया है। इसमें क्षेत्रीय निदेशक, पुणे के कार्यालय से एक सार्वजनिक स्वास्थ्य विशेषज्ञ शामिल हैं; लेडी हाडिर्ंग मेडिकल कॉलेज, नई दिल्ली से स्त्री रोग विशेषज्ञ और नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ मलेरिया रिसर्च (एनआईएमआर), आईसीएमआर नई दिल्ली के एक एंटोमोलॉजिस्ट शामिल हैं।

विशेषज्ञों की टीम राज्य में जीका वायरस की जमीनी स्थिति का जायजा लेगी और आकलन करेगी कि जीका प्रबंधन के लिए केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की कार्य योजना को सही तरीके से लागू किया जा रहा है या नहीं। यह जीका के प्रबंधन के लिए आवश्यक सार्वजनिक स्वास्थ्य हस्तक्षेप की भी सिफारिश करेगा।

पुरंदर तहसील के बेलसर गांव से जुलाई की शुरूआत से बुखार के कई मामले सामने आए।

नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी (एनआईवी), पुणे को टेस्ट के लिए भेजे गए पांच नमूनों में से तीन चिकनगुनिया के लिए पॉजिटिव थे।

पुणे का मामला सामने आने तक इस साल केवल केरल में जीका वायरस संक्रमण के मामले सामने आए थे। केरल में फिलहाल जीका के 63 मामले हैं। एडीज मच्छर जीका वायरस फैलाते हैं। वे डेंगू और चिकनगुनिया के वाहक भी हैं।

--आईएएनएस

एचके/एएनएम

consult with ayurveda doctor.
डिस्क्लेमर - लेख का उद्देश्य आपतक सिर्फ सूचना पहुँचाना है. किसी भी औषधि,थेरेपी,जड़ी-बूटी या फल का चिकित्सकीय उपयोग कृपया योग्य आयुर्वेद चिकित्सक के दिशा निर्देश में ही करें।
Subscribe to our Newsletters