Looking for
  • Home
  • Blogs
  • CoronaVirus Newsकोविड: मानसिक रोगियों को अस्पताल में भर्ती होने का ज्यादा खतरा

कोविड: मानसिक रोगियों को अस्पताल में भर्ती होने का ज्यादा खतरा

User

By NS Desk | 18-Jul-2021

लंदन, 18 जुलाई (आईएएनएस)। मानसिक विकारों वाले व्यक्तियों में कोविड संक्रमण के बाद मरने या अस्पताल में भर्ती होने की संभावना मानसिक विकारों वाले व्यक्तियों की तुलना में दोगुनी अधिक पाई गई। ये खुलासा एक अध्ययन में पाया गया है।

पीयर-रिव्यू जर्नल लैंसेट साइकियाट्री में प्रकाशित अध्ययन ने 22 देशों के 33 अध्ययनों के आंकड़ों को संकलित किया, जिसमें कोविड के 1,469,731 रोगी शामिल थे, जिनमें से 43,938 को मानसिक विकार से प्रभावित थे।

मानसिक विकारों और मनोदशा संबंधी विकारों वाले व्यक्ति, साथ ही एंटीसाइकोटिक्स या चिंताजनक (चिंता कम करने वाली दवाएं) के साथ उपचार प्राप्त करने वाले रोगी कोविड -19 से संबंधित मृत्यु दर के लिए सबसे कमजोर समूहों के रूप में दिखाई दिए। मादक द्रव्यों के सेवन के विकार वाले मरीजों को भी कोविड -19 के बाद अस्पताल में भर्ती होने का खतरा बढ़ गया था।

मैरियन लेबॉयर, पेरिस एस्ट क्रेतेइल विश्वविद्यालय, फ्रांस में प्रोफेसर ने कहा एंटीसाइकोटिक्स कार्डियोवैस्कुलर और थ्रोम्बोम्बोलिक जोखिमों को बढ़ा सकते हैं, पर्याप्त प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया में हस्तक्षेप कर सकते हैं, और कोविड -19 के इलाज के लिए इस्तेमाल की जाने वाली दवाओं के साथ बातचीत का कारण बन सकते हैं। बेंजोडायजेपाइन - साइकोएक्टिव ड्रग्स - श्वसन जोखिम से जुड़े हैं, और सभी से जुड़े होने के लिए जाने जाते हैं- कारण मृत्यु दर है। इसके विपरीत, कुछ एंटीडिपेंटेंट्स को हाल ही में सुरक्षात्मक प्रभाव दिखाया गया था।

शोधकतार्ओं ने समझाया कि इसके अलावा, सामाजिक और जीवन शैली कारक जैसे आहार, शारीरिक निष्क्रियता, सामाजिक अलगाव, उच्च शराब और तंबाकू का उपयोग, और नींद की गड़बड़ी, और दैहिक कोमोरबिडिटीस के एक उच्च प्रसार का भी कोविड -19 रोग पर हानिकारक प्रभाव पड़ सकता है।

शोधकतार्ओं ने राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्वास्थ्य अधिकारियों से गंभीर मानसिक बीमारी, बौद्धिक अक्षमता, और मादक द्रव्यों के सेवन विकारों वाले रोगियों को प्राथमिकता वाले टीकाकरण की पेशकश करके ठोस कार्रवाई करने का आह्वान किया, और देखभाल के लिए संभावित कम पहुंच का मुकाबला करने के लिए कार्रवाई की तात्कालिकता को उजागर किया।

महत्वपूर्ण रूप से, अध्ययन के आंकड़ों ने गंभीर मानसिक बीमारी वाले रोगियों में एक आश्चर्यजनक विपरीतता का खुलासा किया।

विशेष रूप से मानसिक विकारों वाले मरीज उच्चतम मृत्यु दर से प्रभावित थे, लेकिन अस्पताल में भर्ती होने का जोखिम नहीं बढ़ा था।

यूनिवर्सिटी साइकियाट्रिक हॉस्पिटल कैंपस डफेल, बेल्जियम से लिविया डी पिकर ने कहा सार्वजनिक स्वास्थ्य अधिकारियों को इस अध्ययन में पहचाने गए जोखिम वाले रोगियों के सभी समूहों के लिए अधिकतम टीकाकरण सुनिश्चित करने के लिए लक्षित कार्रवाई करने की आवश्यकता है। संभावित कम पहुंच का मुकाबला करने के लिए कोविड विकसित करने वाले मनोरोग विकारों वाले रोगियों में करीबी निगरानी और देखभाल करने के लिए पर्याप्त अस्पताल रेफरल की आवश्यकता है।

--आईएएनएस

एसएस/आरजेएस

consult with ayurveda doctor.
डिस्क्लेमर - लेख का उद्देश्य आपतक सिर्फ सूचना पहुँचाना है. किसी भी औषधि,थेरेपी,जड़ी-बूटी या फल का चिकित्सकीय उपयोग कृपया योग्य आयुर्वेद चिकित्सक के दिशा निर्देश में ही करें।
Subscribe to our Newsletters