Looking for
  • Home
  • Blogs
  • CoronaVirus Newsकोविड के खिलाफ सुरक्षा को कम न करें : राष्ट्रपति कोविंद

कोविड के खिलाफ सुरक्षा को कम न करें : राष्ट्रपति कोविंद

User

By NS Desk | 14-Aug-2021

नई दिल्ली, 14 अगस्त (आईएएनएस)। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने 75वें स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या पर राष्ट्र को संबोधित करते हुए कहा कि कोरोनावायरस अभी भी यहां है, दूर नहीं हुआ है और किसी को भी सुरक्षा के उपायों में कमी नहीं करनी चाहिए।

यह देखते हुए कि टीका सर्वोत्तम संभव सुरक्षा है, उन्होंने कहा, हमें अभी तक इस वर्ष इसकी पुनरावृत्ति के विनाशकारी प्रभावों से बाहर आना बाकी है। पिछले साल, सभी के असाधारण प्रयासों के साथ, हम संक्रमण के प्रसार को नियंत्रण में लाने में सफल रहे थे। हमारे वैज्ञानिकों ने बहुत ही कम समय में टीके विकसित करने में सफलता हासिल की है।

उन्होंने यह भी कहा कि इस साल की शुरुआत में दुनिया के इतिहास में सबसे बड़ा टीकाकरण अभ्यास शुरू किया गया था, जिसमें लोगों से टीकाकरण करने का आग्रह किया गया था।

राष्ट्रपति ने कोविड की दूसरी लहर का जिक्र करते हुए कहा, अंतराल को पाटने के लिए युद्ध स्तर पर प्रयास किए गए थे, जबकि नेतृत्व चुनौती के लिए बढ़ गया था और सरकार के प्रयासों को राज्यों, निजी क्षेत्र की स्वास्थ्य सुविधाओं, नागरिक समाज की पहल द्वारा पूरक किया गया था।

उन्होंने कहा, इस असाधारण मिशन में, विदेशी राष्ट्रों ने उदारता से आवश्यक चीजों को साझा किया, जैसे कि भारत कई देशों में दवा, उपकरण और टीके के साथ पहुंचा था। मैं वैश्विक बिरादरी का आभारी हूं जो मदद के लिए आगे आया।

हाल ही में संपन्न टोक्यो ओलंपिक के बारे में बात करते हुए उन्होंने भारतीय खिलाड़ियों के शानदार प्रदर्शन का जिक्र किया। ओलंपिक में भाग लेने के 121 वर्षो में भारत ने सबसे अधिक पदक जीते हैं।

उन्होंने कहा, हमारी बेटियों ने कई प्रतिकूलताओं को पार करते हुए खेल के मैदानों में विश्व स्तर की उत्कृष्टता हासिल की है। खेल के साथ-साथ, जीवन के सभी क्षेत्रों में महिलाओं की भागीदारी और सफलता में युगांतरकारी परिवर्तन हो रहे हैं। उच्च शिक्षण संस्थानों से लेकर सशस्त्र बलों तक, प्रयोगशालाओं से खेल के मैदानों तक, हमारी बेटियां अपनी पहचान बना रही हैं। अपनी बेटियों की इस सफलता में मुझे भविष्य के विकसित भारत की एक झलक दिखाई दे रही है।

कोविंद ने कहा, स्वतंत्रता दिवस हमारे लिए स्वतंत्रता का त्योहार है। यह स्वतंत्रता सेनानियों की पीढ़ियों द्वारा संभव बनाया गया था, कुछ ज्ञात, कई अज्ञात। उन्होंने महान बलिदान दिए। आज, आप और मैं उनके वीर कार्यो के लिए स्वतंत्र आसमान के नीचे सांस लेते हैं। मैं नमन करता हूं। उन बहादुर शहीदों की पवित्र स्मृति के लिए सम्मान।

उन्होंने यह भी कहा कि महात्मा गांधी के नेतृत्व में हमारा राष्ट्रवादी आंदोलन सत्य और अहिंसा के सिद्धांतों पर आधारित था। कोविंद ने कहा कि उन्होंने और अन्य सभी राष्ट्रीय नायकों ने हमें न केवल औपनिवेशिक शासन से राष्ट्र को मुक्त करने के लिए, बल्कि इसके पुनर्निर्माण के लिए एक अमूल्य खाका प्रदान किया और उनका संघर्ष भारतीय लोकाचार और मानवीय गरिमा की वापसी के लिए था।

उन्होंने कहा, हमने संसदीय लोकतंत्र की प्रणाली को अपनाया है। इसलिए, हमारी संसद हमारे लोकतंत्र का मंदिर है जो हमें सर्वोच्च मंच प्रदान करती है, जहां हम अपने लोगों की भलाई के लिए चर्चा, बहस और मुद्दों पर निर्णय लेते हैं। सभी भारतीयों के लिए यह बहुत गर्व की बात है कि हमारी संसद जल्द ही एक नए भवन में होगी। यह हमारे दृष्टिकोण का एक उपयुक्त कथन होगा : यह समकालीन दुनिया के साथ कदम से कदम मिलाकर चलने के साथ-साथ हमारी विरासत का सम्मान करेगा। यह प्रतीकात्मक से भी अधिक है कि स्वतंत्रता की 75वीं वर्षगांठ के वर्ष में नए भवन का उद्घाटन किया जाएगा।

गगनयान मिशन का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि भारतीय वायुसेना के पायलट विदेशों में प्रशिक्षण प्राप्त कर रहे हैं। जब वे अंतरिक्ष में उड़ान भरेंगे, तो भारत मानवयुक्त अंतरिक्ष मिशन को अंजाम देने वाला दुनिया का चौथा देश बन जाएगा।

कोविंद ने अंत में कहा, मैं भारत के 75वें स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या पर आप सभी को बधाई देता हूं। इस वर्षगांठ को मनाते हुए, मैं अपने दिमाग को 2047 के एक शक्तिशाली, समृद्ध और शांतिपूर्ण भारत की कल्पना करने से नहीं रोक सकता, जब हम अपनी आजादी के 100 साल पूरे करेंगे।

--आईएएनएस

एसजीके/एएनएम

consult with ayurveda doctor.
डिस्क्लेमर - लेख का उद्देश्य आपतक सिर्फ सूचना पहुँचाना है. किसी भी औषधि,थेरेपी,जड़ी-बूटी या फल का चिकित्सकीय उपयोग कृपया योग्य आयुर्वेद चिकित्सक के दिशा निर्देश में ही करें।
Subscribe to our Newsletters