Looking for
  • Home
  • Blogs
  • CoronaVirus Newsअब बौद्ध भिक्षुओं और यूपी में रह रहे विदेशी भी ले सकेंगे कोविड वैक्सीन

अब बौद्ध भिक्षुओं और यूपी में रह रहे विदेशी भी ले सकेंगे कोविड वैक्सीन

User

By NS Desk | 11-Aug-2021

लखनऊ, 11 अगस्त (आईएएनएस)। उत्तर प्रदेश में रहने वाले विदेशी अब राज्य सरकार द्वारा जारी नए दिशा-निदेशरें के बाद कोविड टीकाकरण की सुविधा का लाभ उठा सकते हैं।

गाइडलाइंस के मुताबिक, राज्य में रहने वाले विदेशी अपने पासपोर्ट की मदद से स्लॉट बुक करने के लिए अपना रजिस्ट्रेशन करा सकते हैं। हालांकि, विदेशी पर्यटकों को अभी तक यह सेवा नहीं दी जा रही थी।

स्वास्थ्य और परिवार कल्याण के अतिरिक्त मुख्य सचिव अमित मोहन प्रसाद द्वारा जारी एक आधिकारिक आदेश में कहा गया है कि इससे राज्य में रहने वाले बौद्ध भिक्षुओं को टीकाकरण अब आसान हो जाएगा।

दिशानिदेशरें में कहा गया है कि सभी सरकारी और निजी स्कूलों में शिक्षकों और गैर-शिक्षण कर्मचारियों का टीकाकरण सुनिश्चित करने के लिए स्कूलों के जिला निरीक्षकों और जिला बुनियादी शिक्षा अधिकारियों द्वारा कार्यस्थल टीकाकरण केंद्र स्थापित किए जाने चाहिए।

आदेश में कहा गया है कि दूसरी खुराक लेने वालों को प्रोत्साहित करने का प्रयास किया जाए।

राज्य सरकार ने अब वैक्सीन की दूसरी खुराक लेने वालों के लिए शनिवार का स्लॉट आरक्षित कर दिया है।

आदेश में बेसहारा, बेघर, भिखारियों और सड़क पर रहने वालों के टीकाकरण की आवश्यकता को भी रेखांकित किया है।

उत्तर प्रदेश में विस्तारित खुराक की कुल संख्या मंगलवार को 5.2 लाख से अधिक टीकाकरण के साथ 5.5 करोड़ का आंकड़ा पार कर गई।

कम से कम 4.64 करोड़ ने कम से कम एक खुराक ली है जबकि 86.17 लाख पूरी तरह से टीकाकरण कर चुके हैं।

उत्तर प्रदेश में मंगलवार को कोरोना वायरस संक्रमण के केवल 20 नए मामले दर्ज किए गए। स्वास्थ्य अधिकारियों ने दावा किया कि यह राज्य में अब तक की सबसे कम कोविड -19 की गिनती थी।

ये 20 मामले 12 जिलों से सामने आए, जिनमें प्रयागराज और महाराजगंज में अधिकतम चार मामले थे। वाराणसी में दो मामले दर्ज किए गए जबकि शेष में सिर्फ एक मामला दर्ज किया गया है।

--आईएएनएस

एनपी/आरजेएस

consult with ayurveda doctor.
डिस्क्लेमर - लेख का उद्देश्य आपतक सिर्फ सूचना पहुँचाना है. किसी भी औषधि,थेरेपी,जड़ी-बूटी या फल का चिकित्सकीय उपयोग कृपया योग्य आयुर्वेद चिकित्सक के दिशा निर्देश में ही करें।
Subscribe to our Newsletters