Looking for
  • Home
  • Blogs
  • Ayurvedic Medicinesडाबर लशुनादि वटी के फायदे और नुकसान - Dabur Lashunadi Vati Benefits and Side Effects in Hindi

डाबर लशुनादि वटी के फायदे और नुकसान - Dabur Lashunadi Vati Benefits and Side Effects in Hindi

User

By NS Desk | 10-Aug-2021

Dabur Lashunadi Vati Benefits

डाबर लशुनादि वटी का उपयोग मुख्य रूप से अपच, भूख न लगना और उल्टी जैसे पाचन विकारों के उपचार के लिए किया जाता है।

डाबर लशुनादि वटी की जानकारी - Dabur Lashunadi Vati Information in Hindi 

डाबर लसुनादि वटी आयुर्वेद में पाचन संबंधी समस्याओं के लिए इस्तेमाल किया जाने वाला एक हर्बल फॉर्मूलेशन है। यह जलन को कम करता है।

डाबर लशुनादि वटी पर श्लोक - Dabur Lashunadi Vati Shloka in Hindi 

সशनजीरकसैन्यवगन्यकत्रिकटुरामठचूर्णमिदंसमम्।सपदिनिग्बरसेनविसूचिकांहरतियोरतिभोगविचक्षणे।।
(वै.जी. क्षयरोगादिचिकित्सा१३)

यह भी पढ़े ► आरोग्यवर्धिनी वटी के फायदे और नुकसान

डाबर लशुनादि वटी के घटक तत्व - Dabur Lashunadi Vati Ingredients in Hindi 

डाबर लसुनादि वटी में प्रयुक्त जड़ी-बूटियाँ/घटक हैं - 

  • लशुना
  • श्वेता जीरक
  • सैंधवलवन (सेंधा नमक)
  • सुधा गंधक (शुद्ध गंधक)
  • त्रिकटु
  • रमाथा फेरुला नार्थेक्स
  • निम्बुस्वरासा (नींबू का रस)

डाबर लशुनादि वटी  के फायदे - Dabur Lashunadi Vati Benefits in Hindi 

  • पेट बढ़ाना
  • पेट में दर्द
  • अग्निमांड्या (पाचन दुर्बलता)
  • अजिरना (अपच)
  • अमा दोष (चयापचय अपशिष्ट और विषाक्त पदार्थ)
  • अतिसार (दस्त)
  • कब्ज
  • गुलमा (पेट की गांठ)
  • कुअवशोषण
  • शुला (कोलिकी दर्द)
  • वातरोग (वात दोष के कारण होने वाला रोग)
  • विशुचिका (भेदी दर्द के साथ आंत्रशोथ)

यह भी पढ़े ► चंद्रप्रभा वटी के फायदे और नुकसान

डाबर लशुनादि वटी की खुराक - Dabur Lashunadi Vati Dosages in Hindi 

डाबर वासावलेह की खुराक और अनुपान चिकित्सक के निर्देशानुसार लेना ही श्रेयस्कर होता है। वैसे इसकी सामान्य खुराक निम्नलिखित है - 

  • 1 गोली भोजन के बाद या चिकित्सक के निर्देशानुसार।

डाबर लशुनादि वटी के दुष्प्रभाव - Dabur Lashunadi Vati Effects in Hindi 

अधिक मात्रा में लेने से पेट में जलन हो सकती है। 

यह भी पढ़े ► त्रैलोक्य विजया वटी के फायदे

डाबर लशुनादि वटी सेल्फ लाइफ - Dabur Lashunadi Vati Self Life in Hindi 

2 वर्ष

संदर्भ: References 

  • योग रत्नाकर
  • भैसज्य रत्नावली
  • भैषज्य कल्पना
  • आयुर्वेद सार  संग्रह

डाबर लशुनादि वटी खरीदे - Dabur Lashunadi Vati Buy Online

डाबर लशुनादि वटी ► खरीदे

डाबर लशुनादि वटी से संबंधित प्रश्न (एफएक्यू) - Dabur Lashunadi Vati FAQs in Hindi

प्रश्न - डाबर लशुनादि वटी क्या है?
उत्तर। डाबर लशुनादि वटी को पाचन विकारों जैसे अपच, भूख न लगना और उल्टी के उपचार में मदद करने के लिए तैयार किया गया है। यह शरीर के पाचन क्रिया को बेहतर बनाने में मदद करता है। दूसरे शब्दों में डाबर लशुनादि वटी एक आयुर्वेदिक और हर्बल दवा है। यह टैबलेट के रूप में उपलब्ध है और इसे मौखिक रूप से लिया जा सकता है। लशुनादि वटी का निर्माण डाबर द्वारा किया जाता है। डाबर लशुनादि वटी  का उपयोग मुख्य रूप से अपच, भूख न लगना और उल्टी जैसे पाचन विकारों के उपचार के लिए किया जाता है।

प्रश्न - डाबर लशुनादि वटी का उपयोग क्या है?
उत्तर। डाबर लशुनादि वटी पाचन विकारों जैसे अपच, भूख न लगना और उल्टी के उपचार में सहायता करता है
यह कार्मिनेटिव गुणों के साथ आता है
यह पाचन तंत्र को उत्तेजित करने में मदद करता है
यह पेट दर्द की स्थिति में राहत देता है
यह उल्टी, गैस और तेज दर्द से जुड़े दस्त के इलाज में फायदेमंद है
यह कोलेस्ट्रॉल कम करने और मोटापे के इलाज में उपयोगी है
वात और कफ को संतुलित करता है पित्त में सुधार करता है

प्रश्न - डाबर लशुनादि वटी को आप किस तरह से लेते हैं?
उत्तर। 1 गोली भोजन के बाद या चिकित्सक के निर्देशानुसार लिया जाता है। 

प्रश्न - क्या डाबर लशुनादि वटी आयुर्वेदिक दवा है? 
उत्तर। हाँ, यह पूर्णतया एक आयुर्वेदिक दवा है। 

प्रश्न - क्या डाबर लशुनादि वटी का उपयोग गर्भवती महिला के लिए ठीक है?
उत्तर। डाबर लशुनादि वटी का गर्भवती महिलाओं पर क्या असर होता है इस बारे में कोई जानकारी नहीं है क्योंकि इस बारे में अभी कोई शोध नहीं हुआ है।

प्रश्न - डाबर लशुनादि वटी की खुराक क्या है?
उत्तर। 1 गोली भोजन के बाद ।  

प्रश्न - क्या मैं डाबर लशुनादि वटी को शराब के साथ ले सकता हूं?
उत्तर। डाबर लशुनादि वटी का शराब के साथ क्या प्रभाव होगा इस बारे में कोई शोध नहीं किया गया है।

यह भी पढ़े ► डाबर वासावलेह के फायदे और नुकसान

consult with ayurveda doctor.
डिस्क्लेमर - लेख का उद्देश्य आपतक सिर्फ सूचना पहुँचाना है. किसी भी औषधि,थेरेपी,जड़ी-बूटी या फल का चिकित्सकीय उपयोग कृपया योग्य आयुर्वेद चिकित्सक के दिशा निर्देश में ही करें।
Subscribe to our Newsletters