Looking for
  • Home
  • Blogs
  • Ayurvedic Medicinesडाबर कुटजघन वटी के फायदे और नुकसान - Dabur Kutajghan Vati Benefits and Side Effects in Hindi

डाबर कुटजघन वटी के फायदे और नुकसान - Dabur Kutajghan Vati Benefits and Side Effects in Hindi

User

By NS Desk | 06-Aug-2021

Dabur Kutajghan Vati

डाबर कुटजघन वटी की जानकारी - Dabur Kutajghan Vati Information in Hindi 

डाबर कुटजघन वटी (Dabur Kutajghan Vati) एक क्लासिकल (classical) आयुर्वेदिक एंटी-पेचिश (Ayurvedic anti-dysentery) दवा है जो बढ़े हुए कफ (Kapha) और पित्त (Pitta) को शांत करती है और शरीर को सामान्य रूप से कार्य (normal body function) करने में मदद करता है। 

डाबर कुटजघन वटी के घटक तत्व - Dabur Kutajghan Vati Ingredients in Hindi 

  • कुटजा बार्क (Kutaja bark)
  • अतिविषा पाउडर (Ativisha powder)

यह भी पढ़े ► चंद्रप्रभा वटी के फायदे और नुकसान

डाबर कुटजघन वटी के फायदे - Dabur Kutajghan Vati Benefits in Hindi 

  • पेचिश (Dysentery)
  • दस्त (Diarrhoea)
  • संवेदनशील आंत की बीमारी (Irritable bowel syndrome)
  • कुअवशोषण सिंड्रोम (Malabsorption syndrome)
  • आंतों में संक्रमण और विभिन्न रक्तस्राव (Intestinal infections and different bleeding)

यह भी पढ़े ► डाबर त्रिफला गुग्गुलु के फायदे और नुकसान

डाबर कुटजघन वटी की खुराक - Dabur Kutajghan Vati Dosages in Hindi 

डाबर कुटजघन वटी की खुराक और अनुपान चिकित्सक के निर्देशानुसार लेना ही श्रेयस्कर होता है। वैसे इसकी सामान्य खुराक निम्नलिखित है - 
दिन में दो बार भोजन के बाद 1-2 चम्मच (1-2 tablespoons)।

डाबर कुटजघन वटी की ऑनलाइन खरीद  - Dabur Kutajghan Vati Buy Online

 डाबर कुटाजघन वटी ► खरीदें 

डाबर कुटजघन वटी के दुष्प्रभाव - Dabur Kutajghan Vati Side Effects in Hindi 

डाबर कुटाजघन वटी का कोई साइड इफेक्ट नहीं देखा गया है।

डाबर कुटजघन वटी सेल्फ लाइफ - Dabur Kutajghan Vati Self Life in Hindi 

2 साल

यह भी पढ़े ► डाबर अविपत्तिकर टैबलेट के फायदे और नुकसान

डाबर कुटजघन वटी से संबंधित प्रश्न (एफएक्यू) - Dabur Kutajghan Vati FAQs in Hindi

प्रश्न - डाबर कुटजघन वटी क्या आयुर्वेदिक दवा है? 
उत्तर। हाँ, कुटजा बार्क (Kutaja bark) और अतिविषा पाउडर (Ativisha powder) के समावेश से बना यह पूर्णतया एक आयुर्वेदिक दवा है। 

प्रश्न - क्या डाबर कुटजघन वटी का उपयोग गर्भवती महिला के लिए ठीक है?
उत्तर। डाबर कुटाजघन वटी का गर्भवती महिलाओं पर क्या असर होता है इस बारे में कोई जानकारी नहीं है क्योंकि इस बारे में अभी कोई शोध नहीं हुआ है।

प्रश्न - डाबर कुटजघन वटी की खुराक क्या है?
उत्तर। डाबर कुटाजघन वटी का सेवन आप 1-2 बड़े चम्मच दिन में दो बार भोजन के बाद कर सकते हैं या आयुर्वेदिक चिकित्सक के निर्देशानुसार ले सकते हैं। 

प्रश्न - डाबर कुटजघन वटी क्या है?
उत्तर। डाबर कुटाजघन वटी एक शास्त्रीय आयुर्वेदिक एंटी-पेचिश दवा है जो बढ़े हुए कफ और पित्त को शांत करती है। 

प्रश्न - क्या डाबर कुटजघन वटी का उपयोग बच्चों के लिए सुरक्षित है?
उत्तर। डाबर कुटाजघन वटी का बच्चों में बहुत ही हल्का दुष्प्रभाव होता है। आयुर्वेद चिकित्सक की सलाहानुसार ही इसे बच्चों को देना चाहिए। 

प्रश्न - क्या डाबर कुटाजघन वटी का उपयोग स्तनपान करने वाली महिलाओं के लिए ठीक है?
उत्तर। डाबर कुटाजघन वटी का स्तनपान कराने वाली महिलाओं पर क्या असर होता है इस बारे में कोई जानकारी नहीं है क्योंकि इस बारे में अभी कोई शोध नहीं हुआ है।

प्रश्न - डाबर कुटाजघन वटी में किन सामग्रियों का इस्तेमाल किया जाता है?
उत्तर। डाबर कुटाजघन वटी में प्रयोग होने वाली सामग्री - कुटजा बार्क और अतिविषा पाउडर

प्रश्न - क्या मैं डाबर कुटाजघन वटी को शराब के साथ ले सकता हूं?
उत्तर। डाबर कुटजघन वटी का शराब के साथ क्या प्रभाव होगा इस बारे में कोई शोध नहीं किया गया है।

प्रश्न - डाबर कुटजघन वटी की लत पड़ जाती है?
उत्तर। नहीं, डाबर कुटाजघन वटी को लेने से कोई लत नहीं पड़ती।

प्रश्न - क्या मैं डाबर कुटजघन वटी को गर्म पानी के साथ ले सकता हूं?
उत्तर। हां, डाबर कुटाजघन वटी को ठंडे या गर्म पानी के साथ लेने से या किसी आयुर्वेदिक चिकित्सक के निर्देशानुसार कोई हानि नहीं होती है।

प्रश्न - क्या डाबर कुटाजघन वटी आंत की बीमारी​ IBS (irritable bowel syndrome) में प्रभावी है?
उत्तर। हाँ, डाबर कुटाजघन वटी आईबीएस (आंत की बीमारी) में प्रभावी है।

प्रश्न - डाबर कुटजघन वटी किसके लिए प्रयोग की जाती है?
उत्तर। डाबर कुटाजघन वटी एक शास्त्रीय आयुर्वेदिक एंटी-पेचिश दवा है जो बढ़े हुए कफ और पित्त को शांत करती है। यह प्रभावी रूप से दस्त, चिड़चिड़ा आंत्र सिंड्रोम (IBS), पेट में संक्रमण और पेट के अल्सर का प्रबंधन करता है।

यह भी पढ़े ► आरोग्यवर्धिनी वटी के फायदे और नुकसान

सन्दर्भ - References 

  • भैसज्य रत्नावली (Bhaishajya Ratnavali)
  • भैषज्य कल्पना (Bhaishajya Kalpana)
  • षडंगधर संहिता (Shadhangdhar Samhita)
  • अनुसंधान / लेख लिंक - कुटजघन वटी की प्रभावशीलता का नैदानिक ​​मूल्यांकन / Clinical Evaluation Of Efficacy Of Kutajghan Vati  http://www.iamj.in/posts/images/upload/878_883.pdf 

Read in English ► Dabur Kutajghan Vati: Benefits, Side Effects, Composition and Dosage

consult with ayurveda doctor.
डिस्क्लेमर - लेख का उद्देश्य आपतक सिर्फ सूचना पहुँचाना है. किसी भी औषधि,थेरेपी,जड़ी-बूटी या फल का चिकित्सकीय उपयोग कृपया योग्य आयुर्वेद चिकित्सक के दिशा निर्देश में ही करें।
Subscribe to our Newsletters