Looking for
  • Home
  • Blogs
  • Ayurveda Streetपंचकर्म के चमत्कार से ठीक हुए घुटने, ऑपरेशन से बचा मरीज

पंचकर्म के चमत्कार से ठीक हुए घुटने, ऑपरेशन से बचा मरीज

User

By NS Desk | 20-Dec-2018

Panchakarma

पंचकर्म के माध्यम से असाध्य रोगों का उपचार भी बिना किसी सर्जरी के संभव है. ऐसा ही एक मामले अभी प्रकाश में आया है जिसे दैनिक भास्कर अखबार ने प्रमुखता से प्रकाशित किया है. पूरी रिपोर्ट इस तरह से है -

एलाेपैथी डॉक्टरों ने ऑपरेशन की दी सलाह, पंचकर्म की जानूधारा थैरेपी से ही ठीक हुए घुटने

मरीज सीता के उपचार से पहले कराए गए एक्स-रे में पांव की दोनों हड्डियां एक-दूसरे से टकराने लगी थी। दोनों के बीच का सामान्य गेप खत्म हो गया था। उपचार के बाद मरीज सीता के उपचार के बाद डिस्चार्ज के समय कराए गए एक्स-रे में पांव की दोनों हड्डियां में होने वाला गेप सामान्य स्थिति में आ गया। दर्द से छुटकारा मिला रिछपाल सिंह का कहना है, कि 7-8 साल से घुटने के दर्द से परेशान था, लेकिन आयुर्वेद यू्निवर्सिटी में एक महीने का इलाज लेने के बाद अब मैं आराम से चल सकता हूं। मेरे रुटीन के सभी काम करने में कोई परेशानी नहीं होती है। इसी तरह सीता का कहना है, कि अब मैं आराम से चल फिर सकती हूं। पहले घुटने में दर्द के कारण चलने फिरने में दिक्कत होती थी। नागौर और जोधपुर सभी जगह डॉक्टरों को दिखाया। सभी ने नी-रिप्लेसमेंट कराने के लिए कहा था। आयुर्वेद युनिवर्सिटी में एक महीना इलाज के बाद अब दर्द में और घुटने पर आ रही सूजन कम हो गई और अब वे ठीक हैं।

क्या है जानूधारा थैरेपी 

आयुर्वेद चिकित्सा में शिरोधरा जिस प्रकार सिर पर कुछ ऊंचाई से तेल की धार बनाकर मरीज के सिर पर डाला जाता है। वैसे ही इसमें गर्म औषधीय तेल की धारा को निर्धारित ऊंचाई से मरीज के घुटने पर डाला जाता है। डॉ. ज्ञानप्रकाश शर्मा ने बताया, कि जानूधारा थैरेपी में मरीज को पहले विशिष्ट धारा टेबल पर लिटाया गया। उसके बाद महानारायण तेल और तिल के तेल के मिश्रण को 40-42 डिग्री तापमान पर गर्म कर 8 इंच की ऊंचाई से मरीज के घुटने पर आगे और पीछे की तरफ 21 दिन लगातार (30 मिनट प्रत्येक दिन) धारा को प्रवाहित किया गया। इस थैरेपी में मरीज के घुटने के तीन मर्म भागों पर धारा का प्रवाह और अभ्यंग किया गया। तेल की धारा के साथ ही मरीज के घुटने पर प्रेशर के साथ अभ्यंग (मालिश) की गई।

आयुर्वेद का चमत्कार -

आयुर्वेद का चमत्कार

 

 

 

 

यह भी पढ़ें  ► पंचकर्म ने डॉ. सत्येंद्र नारायण ओझा को दिया नया जीवन 

consult with ayurveda doctor.
डिस्क्लेमर - लेख का उद्देश्य आपतक सिर्फ सूचना पहुँचाना है. किसी भी औषधि,थेरेपी,जड़ी-बूटी या फल का चिकित्सकीय उपयोग कृपया योग्य आयुर्वेद चिकित्सक के दिशा निर्देश में ही करें।
Subscribe to our Newsletters