Looking for
  • Home
  • Blogs
  • CoronaVirus Newsओमिक्रॉन के खिलाफ प्रभावी है कोविड एंटीबॉडी दवा : स्टडी

ओमिक्रॉन के खिलाफ प्रभावी है कोविड एंटीबॉडी दवा : स्टडी

User

By NS Desk | 03-Dec-2021

covid antibody drug effective against omicron in hindi

लंदन। ब्रिटिश दवा निर्माता ग्लैक्सो स्मिथक्लाइन ने दावा किया है कि प्रारंभिक प्रयोगशाला परीक्षणों से पता चला है कि कोविड-19 के खिलाफ इसकी एंटीबॉडी दवा नए सुपर म्यूटेंट ओमिक्रॉन वैरिएंट के खिलाफ प्रभावी है। ग्लैक्सोस्मिथक्लाइन (जीएसके) ने सोट्रोविमैब को यूएस पार्टनर वीर (वीआईआर) बायोटेक्नोलॉजी के साथ विकसित किया, जो मानव द्वारा पहले से बनाए गए प्राकृतिक एंटीबॉडी पर आधारित एक मोनोक्लोनल एंटीबॉडी है। नैदानिक परीक्षणों में, सोट्रोविमैब को 24 घंटों में हल्के से मध्यम कोविड-19 के साथ उच्च जोखिम वाले वयस्क रोगियों में अस्पताल में भर्ती होने या मृत्यु के जोखिम को 79 प्रतिशत तक कम करने का दावा किया गया है।

कंपनी ने एक बयान में कहा, "ओमिक्रॉन वैरिएंट के अनुक्रम (सीक्वेंस) के आधार पर, हमारा मानना है कि सोट्रोविमैब की ओर से इस वैरिएंट के खिलाफ सक्रियता और प्रभावशाली बनाए रखने की संभावना है।"

यह अध्ययन प्रीप्रिंट सर्वर बायोरेक्सिव पर पोस्ट किया गया है। हालांकि अध्ययन में प्रारंभिक प्रयोगशाला परीक्षणों के आधार पर डेटा साझा किया गया है और अभी तक इसकी पूर्ण समीक्षा नहीं की गई है। कंपनी के अनुसार, अध्ययन ने प्रदर्शित किया कि सोट्रोविमैब नए ओमिक्रॉन सार्स-सीओवी-2 वैरिएंट (बी.1.1.529) के प्रमुख म्यूटेंट के खिलाफ सक्रियता या गतिविधि को बरकरार रखता है।

कंपनियां अब 2021 के अंत तक एक अपडेट प्रदान करने के इरादे से सभी ओमिक्रॉन म्यूटेशन के संयोजन के खिलाफ सोट्रोविमैब की निष्क्रिय गतिविधि की पुष्टि करने के लिए इन व्रिटो स्यूडो-वायरस टेस्टिंग पूरा कर रही हैं।

वीर बायोटेक्नोलॉजी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी, पीएचडी, जॉर्ज स्कैनगोस ने एक बयान में कहा, "सोट्रोविमैब को जानबूझकर एक म्यूटेटिंग वायरस को ध्यान में रखकर बनाया गया है। स्पाइक प्रोटीन के अत्यधिक संरक्षित क्षेत्र को लक्षित करके, जिसके म्यूटेट होने की संभावना कम है, हमने वर्तमान सार्स-सीओवी-2 वायरस और भविष्य के वैरिएंट दोनों से निपटने की उम्मीद की है, जिसकी हमें उम्मीद थी कि यह अपरिहार्य होगा।"

उन्होंने कहा, "हमें पूरी उम्मीद है कि यह सकारात्मक प्रवृत्ति जारी रहेगी और ओमिक्रॉन के पूर्ण संयोजन अनुक्रम (फुल कोम्बिनेशन सीक्वेंस) के खिलाफ अपनी सक्रियता की पुष्टि करने के लिए तेजी से काम कर रहे हैं।"

बता दें कि जीएसके और वीर बायोटेक्नोलॉजी द्वारा विकसित सोट्रोविमैब एक खुराक वाली एंटीबॉडी है और यह दवा कोरोना वायरस के बाहरी आवरण पर स्पाइक प्रोटीन से जुड़कर काम करती है। इससे यह वायरस को मानव कोशिका में प्रवेश करने से रोक देती है।

जेवुडी के रूप में मार्केटिंग की जाने वाली दवा को कोविद-19 के लक्षणों की शुरुआत के पांच दिनों के भीतर दिए जाने की सिफारिश की गई है। इसने दिखाया है कि यह उन लोगों के लिए प्रभावी है, जिन्हें ऑक्सीजन सप्लीमेंट की आवश्यकता नहीं है और जिन्हें गंभीर कोविड संक्रमण के बढ़ने का खतरा है।

सोट्रोविमैब को यूके मेडिसिन्स एंड हेल्थकेयर प्रोडक्ट्स रेगुलेटरी एजेंसी (एमएचआरए) द्वारा रोगसूचक वयस्कों और किशोरों (12 वर्ष और अधिक आयु) के तीव्र कोविड-19 संक्रमण के उपचार के लिए एक सशर्त मार्केटिंग प्राधिकरण भी दिया गया है। सशर्त मार्केटिंग प्राधिकरण में इंग्लैंड, स्कॉटलैंड और वेल्स शामिल हैं।
यह भी पढ़े► नया सुपर म्यूटेंट कोविड वैरिएंट ओमिक्रॉन बेहद संक्रामक - डॉ. गगनदीप कांग

consult with ayurveda doctor.
डिस्क्लेमर - लेख का उद्देश्य आपतक सिर्फ सूचना पहुँचाना है. किसी भी औषधि,थेरेपी,जड़ी-बूटी या फल का चिकित्सकीय उपयोग कृपया योग्य आयुर्वेद चिकित्सक के दिशा निर्देश में ही करें।
Subscribe to our Newsletters