Looking for
  • Home
  • Blogs
  • Ayurveda Streetआयुष मंत्री अखिल भारतीय आयुर्वेद संस्थान में इनक्यूबेशन सेंटर फॉर इनोवेशन एंड एंटरप्रेन्योरशिप का उद्घाटन करेंगे

आयुष मंत्री अखिल भारतीय आयुर्वेद संस्थान में इनक्यूबेशन सेंटर फॉर इनोवेशन एंड एंटरप्रेन्योरशिप का उद्घाटन करेंगे

User

By NS Desk | 26-Oct-2021

Ayush Minister to Inaugurate Incubation Centre news in hindi

आयुष तथा पत्तन, पोत परिवहन और जलमार्ग मंत्री श्री सर्बानंद सोनोवाल 29 अक्टूबर 2021 को नई दिल्ली के विज्ञान भवन में आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान अखिल भारतीय आयुर्वेद संस्थान (एआईआईए) में इनक्यूबेशन सेंटर फॉर इनोवेशन एंड एंटरप्रेन्योरशिप (एआईआईए-आईसीएआईएनई) का उद्घाटन करेंगे।

आयुष और महिला एवं बाल विकास राज्य मंत्री डॉ. मुंजपारा महेंद्रभाई कालूभाई भी छठे आयुर्वेद दिवस समारोह के तहत 'पोषण के लिए आयुर्वेद' विषय पर आयोजित कार्यक्रम में शामिल होंगे।

कार्यक्रम के एक भाग के रूप में 30 अक्टूबर को "आयुष क्षेत्र में स्टार्ट-अप्स- कार्यक्षेत्र और अवसर (अयूर-उद्यम:)" पर एक राष्ट्रीय संगोष्ठी आयोजित की जा रही है।

इस कार्यक्रम में देश भर के आयुर्वेद क्षेत्र के विभिन्न प्रतिनिधि और लगभग 400 आयुष संस्थानों तथा एआईआईए के सहयोग से काम करने वाले एमओयू भागीदार भी शामिल होंगे।

अकादमिक ज्ञान का लाभ उठाते हुए उद्यमिता को बढ़ावा देने के लिए अखिल भारतीय आयुर्वेद संस्थान (एआईआईए) ने अपने परिसर में एक इनक्यूबेशन एंड इनोवेशन सेंटर की स्थापना की है ताकि नए युग के उपक्रमों के समूह को तैयार किया जा सके। एआईआईए को भारत सरकार के सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम मंत्रालय (एमएसएमई) के तहत मेजबान संस्थान (एचआई) के रूप में मान्यता दी गई है, जो नवोन्मेषकों को उनके विचारों तथा कल्पनाओं को विकसित व पोषित करने के अवसर प्रदान करेगा।

एआईआईए को दिए गए आयुष मंत्रालय के आदेशपत्र के तहत इनक्यूबेशन सेंटर की स्थापना नए युग के उपक्रमों के एक समूह को सकेंद्रक करने और अकादमिक ज्ञान का लाभ उठाने वाली उद्यमिता को बढ़ावा देने के लिए की जाएगी।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 15 अगस्त 2021 को स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर अपने भाषण में कहा था कि स्टार्टअप हमारे देश में नए प्रकार के सम्पदा निर्माता हैं और यह भारत के स्टार्टअप तथा स्टार्टअप पारिस्थितिकी तंत्र को दुनिया में सर्वश्रेष्ठ बनाने के लिए सरकार द्वारा अथक प्रयास करने की आवश्यकता को रेखांकित करता रहा है। भारत सरकार आयुष चिकित्सा प्रणाली के विकास व संवर्धन के लिए राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के माध्यम से राष्ट्रीय आयुष मिशन (एनएएम) की केंद्र प्रायोजित योजना लागू कर रही है।

उपरोक्त के अलावा एआईआईए ने 16 वर्ष की आयु तक के बच्चों के लिए रोग प्रतिरक्षा बढ़ाने वाली 'बाल रक्षा किट' विकसित की है, जिसे इस आयोजन में लॉन्च किया जाएगा। आयुर्वेद दिवस के अवसर पर बच्चों को 10,000 नि:शुल्क बाल रक्षा किट वितरित करने का विचार प्रस्तावित है। हाल ही में अखिल भारतीय आयुर्वेद संस्थान ने भारत सरकार के संबंधित प्राधिकरण के अनुरूप लाइसेंस के साथ एक अच्छी तरह से सुसज्जित ब्लड बैंक भी स्थापित किया है, जिसका उद्घाटन आयोजन के दिन ही किया जाएगा।

आयुर्वेद फूड एक्सपो इस आयोजन का एक प्रमुख आकर्षण होगा, जिसमें खाने के लिए तैयार स्वास्थ्यवर्धक खाद्य पदार्थ और अन्य विभिन्न नवीन व्यंजनों को प्रदर्शित करके खाद्य क्षेत्र में आयुर्वेद की ताकत दर्शाई जाएगी। यह आयुर्वेद के विभिन्न हितधारकों को एक छत के नीचे लाने के लिए आदर्श मंच के रूप में काम करेगा।

30 अक्टूबर 2021 को एआईआईए परिसर में राष्ट्रीय संगोष्ठी के दौरान, आयुष मंत्रालय, वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय, खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्रालय, सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम मंत्रालय (एमएसएमई), आईआईटी, एनसीआईएसएम, एनआईएफटीईएम के प्रख्यात वक्ता, खाद्य प्रौद्योगिकीविद तथा उद्यमी अपनी विशेषज्ञता और विचार साझा करेंगे। कार्यक्रम के दौरान खाद्य क्षेत्र में आयुर्वेद की शक्ति को प्रदर्शित करने के लिए एक आयुर्वेद फूड एक्सपो भी आयोजित होगा।

इस कार्यक्रम में स्वास्थ्य क्षेत्र कौशल परिषद (एचएससीसी) के तहत आयुष उप क्षेत्र कौशल परिषद के लिए योग्यता पैक का शुभारंभ भी किया जायेगा। एआईआईए 2018 से आयुष क्षेत्र में कौशल विकास कार्यक्रमों के निष्पादन में आयुष मंत्रालय के निर्देशों के तहत एक नोडल संगठन के रूप में कार्य कर रहा है और मंत्रालय ने एआईआईए को एचएसएससी के तहत कौशल विकास में उत्कृष्टता केंद्र के रूप में नामित किया है।
यह भी पढ़े► सर्बानंद सोनोवाल ने आयुर्वेदिक पौधों को समर्पित आयुष वन का उद्घाटन किया

consult with ayurveda doctor.
डिस्क्लेमर - लेख का उद्देश्य आपतक सिर्फ सूचना पहुँचाना है. किसी भी औषधि,थेरेपी,जड़ी-बूटी या फल का चिकित्सकीय उपयोग कृपया योग्य आयुर्वेद चिकित्सक के दिशा निर्देश में ही करें।
Subscribe to our Newsletters