Home Blogs Vaidya Street मंत्रों से दिव्य सर्पों की चिकित्सा, महाभारत में भी वर्णित

मंत्रों से दिव्य सर्पों की चिकित्सा, महाभारत में भी वर्णित

By NS Desk | Vaidya Street | Posted on :   26-Dec-2020

महाभारत मे वर्णित ऐतिहासिक संदर्भ और सुश्रुतार्थसन्दीपन टीका = दिव्य सर्पों की चिकित्सा के अधिकरण मे वर्णित

"चिकित्सया मन्त्रेण विनाकृतयेत्येव नेयम् , महाभारतीये आदिपर्व ४३ अध्याये - अभिशप्तस्य राज्ञः परीक्षितो दंशनार्थं प्रस्थितेन तक्षकेण दष्टतया भस्मीभूतस्य न्यग्रोधस्य मन्त्रसचिवेन मुनिना काश्यपेन पुनरुज्जीवनस्मरणात्"

- (हाराणचन्द्र चक्रवर्ति कविराज कृत सुश्रुतार्थसन्दीपन टीका) संदर्भ - सुश्रुत संहिता कल्पस्थान ४/४

वेरावळ के जिले मे मोटी धणेज ग्राम के पास श्री धन्वन्तरि देहोत्सर्ग स्थल है । वही पे पास मे तक्षक नाग की गुफा और उसीका क्षेत्र है । वहा से ही व्रजनी नदी बहती है ।

पाण्डवो का पोता राजा परीक्षित को श्राप मिला था की उसकी मृत्यु तक्षक नाग के दंष्टाविष से होगी । काश्यप मुनी जी ने तक्षक को प्रार्थना की थी के राजा परीक्षित को छोड दो, वोह सम्राट है । किन्तु तक्षकजी ने कहा की उन्हे श्राप को भोगना ही पडेगा । तो कृद्ध होकर काश्यप मुनी ने कहा की मै परीक्षित राजा को अपने मन्त्रसामर्थ्य से फिरसे जीवित कर  दुंगा । तो तक्षकजी ने कहा दिखाओ अपना मन्त्रसामर्थ्य । और वही पास के एक वटवृक्ष को दंश किया । वोह वटवृक्ष उस तीव्रतम तीक्ष्ण तक्षकविष से भस्मीभूत हो गया ।

फिर काश्यप ऋषीजी ने व्रजनी नदी का पानी हात मे लेकर विषनाशक मन्त्रो से अभिमन्त्रित किया और उस्म भस्म के राशि पर छिडक दिया । तोह वोह वटवृक्ष फिरसे जीवित हो गया । यह देखकर तक्षकजी विस्मित रह गये । और आगे सूक्ष्म योजना करके, काश्यपजी को दूर रखते हुए, परीक्षित राजा को मार डाला ।

यह ऐतिहासिक घटना जहा हुई वोह जगह गुजराथ मे उपर वर्णित मोटी धणेज ग्राम के पास, तक्षक के गुफा के पास है । आज भी वोह वटवृक्ष वहा है जिसके नये पत्ते पीत वर्णी और पुराने, पेडसे गिर चुके पत्ते हरे वर्ण के है । यही पर हम गत १० वर्षों से संहिता निरुपण कर रहे है ।

यह संदर्भ हाराणचंद्र चक्रवर्ति जी ने अपने टीका मे उद्धृत किया है । 

टीका का अधिकरण दिव्य सर्पो की चिकित्सा यह है । आयुर्वेद मे विषतन्त्र मे सिर्फ भौम सर्पो की चिकित्सा का अधिकरण है । दिव्य सर्पो की चिकित्सा यह हमारा विषय और अधिकार नही यह सुश्रुताचार्य कहते है । 

दिव्य सर्पो की चिकित्सा यह मन्त्रो से और दिव्य अगदों से ही होती है । मन्त्रो से अरिष्टा बन्धन करने को कहा है ।

 मन्त्रग्रहण कैसे करना चाहिये, किसने मन्त्रोच्चारण करना चाहिये उसके लिये क्या नियम है उसका विस्तृत वर्णन सुश्रुत संहिता कल्पस्थान पञ्चम अध्याय मे मिलता है । जैसे मैथुन-मद्य-मांस का त्याग, मिताहार, शुचि, कुशास्तरण पर आसनशयन यह नियम वर्णित है । सत्यब्रह्मतपोमय अाचरण करने वाले व्यक्तीको मन्त्र सिद्ध हो सकता है आदि विषय वर्णित है ।

'तार्क्ष्य अगद' नामका कल्प भी इसी अध्याय मे वर्णित है जो तक्षक विष को भी नष्ट कर सकता है ।

इस तरह महाभारत मे वर्णित ऐतिहासिक संदर्भ सुश्रुत संहिता कल्पस्थान मे और हाराणचंद्र चक्रवर्ति जी की टीका सुश्रुतार्थसन्दीपन मे वर्णित है ।
संहिता यह एक ज्ञान का विशाल सागर है । जितने बार डुबकी लगायेंगे हर बार नये मौक्तिक मिल जाते है ।

(वैद्य अभिजित सराफ के सोशल मीडिया से साभार)

NS Desk

Are you an Ayurveda doctor? Download our App from Google PlayStore now!

Download NirogStreet App for Ayurveda Doctors. Discuss cases with other doctors, share insights and experiences, read research papers and case studies. Get Free Consultation 9625991603 | 9625991607 | 8595299366

Read the Next

view all