Home Blogs NirogStreet News IMA के हड़ताल के विरोध में आयुर्वेद चिकित्सकों का निःशुल्क सत्याग्रह !

IMA के हड़ताल के विरोध में आयुर्वेद चिकित्सकों का निःशुल्क सत्याग्रह !

By NS Desk | NirogStreet News | Posted on :   10-Dec-2020

आयुर्वेद चिकित्सकों को सर्जरी की मंजूरी देने के फैसले  के खिलाफ इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए)  मुखर रहा है. सरकार के इस फैसले को मिक्सोपैथी की संज्ञा देते हुए इंडियन मेडिकल एसोसिएशन लगातार प्रदर्शन कर रहा है. अब उसी की अगली कड़ी के रूप में 11 दिसंबर को देशव्यापी हड़ताल का आयोजन किया जा रहा है जिसमें शामिल होने के लिए आईएमए ने देशभर के एलोपैथिक चिकित्सकों को कहा है. 

आयुर्वेद जगत में इस हड़ताल को लेकर काफी रोष है और आईएमए के इस कदम को वे आयुर्वेद विरोधी व गलत मान रहे हैं.  बहरहाल आयुर्वेद संगठनों और चिकित्सकों ने इस हड़ताल का सांकेतिक विरोध करने के लिए अनोखा उपाय निकाला है. आयुर्वेद चिकित्सक हड़ताल वाले दिन यानी 11 दिसंबर को अपने क्लिनिक को खुला रखेंगे और उस दिन आए रोगियों का निःशुल्क उपचार करेंगे. इस संदर्भ में सोशल मीडिया पर आयुर्वेद चिकित्सक सन्देश के साथ पोस्टर और अपने क्लिनिक व अपना नंबर भी आम जनों के लिए साझा कर रहे हैं. ऐसे ही कुछ आयुर्वेद चिकित्सकों की प्रतिक्रिया - 

Anuj Jain - Ayurveda surgery VS IMA

पोस्ट ग्रेजुएट आयुर्वेद चिकित्सकों ( MS) को सर्जरी करने के पुराने अधिकारों को ही क्लेरिफिकेशन देकर सरकार लागू करती है , और सरकार का यह कदम Mixopathy को बढ़ावा देना लग रहा है या सरकार का यह कदम यदि IMA को अपने अधिकारों में कटौती लग रहा है 
तो सुनो ... 
1. सबसे पहले उसे खुद सभी तरह की सर्जरी के अधिकारों से वंचित होना होगा। क्योंकि सर्जरी तो आयुर्वेद की ही देन है। 
प्लास्टिक सर्जरी का तो नाम भी भूल जाना होगा।
2. चाकू, कैंची, प्रोब, सूई, धागा etc उन सभी सैंकडों उपकरणों को हाथ नहीं लगाना होगा, जिनको आयुर्वेद ने काम में लेना बताया।
3. मधुमेह का इलाज करना बंद करना होगा जिसके विशेषज्ञ बने बैठे हो , ये तो उदाहरण मात्र है लंबी फेहरिस्त है .. 
4. मोर्फिन, बैलाडोना, डिजिटेलिस आदि सैंकड़ों उन सभी औषधियों को अपनी मेटेरिया मेडिका से बाहर निकाल फैंकना होगा, जिनका उल्लेख आयुर्वेद में किया गया है। या जिनका सोर्स हर्बल बेस्ड है . 
5. अपने प्रेस्क्रिप्शन में एक भी आयुर्वेद दवा लिखना बन्द करना होगा। 
6. MIXOPATHY तब नही हुई जब क्षारसूत्र डिपार्टमेंट AIIMS में खोल लिया और सर्जरी की किताबो में भी COPY कर लिया .. 
क्योंकि ये सभी MIXOPATHY का ही प्रमाण हैं।
सुधर जाओ .. सम्हल जाओ ...

NASYA - India

During war, a true soldier never goes on strike. Indian Doctors will be working on 11th December, 2020 !!

ACAP

Acap संगठन के समस्त वैद्य दिनांक 11/12/2020 शुक्रवार को निःशुल्क परामर्श प्रदान करेंगे , जैसा कि आप सभी जानते ही हैं कि IMAजैसे समझदार संगठन के द्वारा संकीर्ण मानसिकतावश आयुर्वेद चिकित्सकों के लिए शल्य चिकित्सा के कोर्स का विरोध किया जा रहा है , IMA  की इस बालविरोध के प्रतिकार स्वरूप समस्त acap संगठन से जुड़े एवं अन्य भी संगठनों से जुड़े आयुर्वेदाचार्य 11/12/2020 शुक्रवार को पूर्णतः निःशुल्क परामर्श प्रदान करेंगे ।
    कृपया इस msg पोस्ट को ज्यादा से ज्यादा वैद्यों के साथ साझा करें और अपनी आवाज बुलंद करें ।
                                                      धन्यवाद

DrGajendra Daharwal

विगत दिनों भारत सरकार ने भारतीय चिकित्सा के इतिहास का बड़ा महत्वपूर्ण निर्णय दिया है और शासनादेष जारी किया है कि MS शल्ल्य एवं MS शालाक्य के आयुर्वेद चिकित्सक सभी शल्य चिकित्सा SURGERY जैसे  Lepratomy  से लेकर ENT सर्जरी व Opthelmic surgery आयुर्वेद शास्त्र संगत विधि से निर्बाध रूप से कर सकते हैं।
सभी की जानकारी के लिए मैं बताना चाहूंगा कि surgery की text book में भी महर्षि सुश्रुत को father of surgery माना गया है। हजारों वर्ष पूर्व महर्षि सुश्रुत ने अनेक जटिल सर्जरी करके आधुनिक सर्जरी को एक दिशा दिया तथा सुश्रुत संहिता के सिद्धांतों के आधार पर आज भी सर्जरी की जा रही है । सुश्रुत संहिता में वर्णित surgical instrument के आधार पर ही आज के surgical instrument बने हैं। छोटे घाव (woond) की सर्जरी से लेकर lepratomy (पेट की सर्जरी), पथरी की सर्जरी के सिद्धांत भी महर्षि सुश्रुत ने ही बताया है।
      इन सब के बावजूद जब भारत सरकार ने आयुर्वेद के शल्य चिकित्सकों को सर्जरी का अधिकार जो कि उनका प्रथम व मौलिक अधिकार है वह उन्हें दिया तो इसमें IMA जैसे आधुनिक चिकित्सकों के संगठन का विरोध करना हास्यास्पद है तथा तर्कसंगत नही है।
           अतः इस अतार्किक विरोध से जनसामान्य के स्वास्थ्य के साथ होने वाले खिलवाड़ को कम करने के लिए Acap संगठन के समस्त वैद्य दिनांक 11/12/2020 शुक्रवार को निःशुल्क परामर्श प्रदान करेंगे ।
 ACAP संगठन से जुड़े एवं अन्य भी संगठनों से जुड़े आयुर्वेदाचार्य 11/12/2020 शुक्रवार को पूर्णतः निःशुल्क परामर्श प्रदान करेंगे ।
      जय आयुर्वेद ! जय धन्वंतरि !!

Dinesh Yadav

मिट्टी का कर्ज है,
         अपने भारतीय चिकित्सा पद्धति आयुर्वेद
             की आन बान और शान का ज्ञान स्तर
                     के इस महायुद्ध में 
      Allopathy की Monopoly के विरुद्ध लड़ाई के जंग में खड़ा हूं।
            सारथी आयुर्वेद मिशन बेगूसराय पर
             दिनांक 11.12.20 को आपका 
     निःशुल्क परामर्श हेतु स्वागत  है।
           "  देश हित में आयुर्वेद को अपनाएं "
                        डॉ दिनेश कुमार 
असिस्टेंट प्रोफेसर राजकीय आयुर्वेदिक कांलेज बेगूसराय

Keraliya Ayurvedic Panchakarma Centre

इंडियन मेडिकल एसोसिएशन द्वारा आयुर्वेद के चिकित्सकों के द्वारा सर्जरी करने के विरोध में किए जा रहे प्रदर्शन के विरोध में कल दिनांक 11 दिसंबर को केरलीय आयुर्वेदिक पंचकर्म सेंटर, सैक्टर 14, उदयपुर में  मरीजों को निःशुल्क चिकित्सा परामर्श प्रदान किया जाएगा। अपोइंटमेंट के लिए कृपया हमसे 9829185425 पर संपर्क करे।

NS Desk

Are you an Ayurveda doctor? Download our App from Google PlayStore now!

Download NirogStreet App for Ayurveda Doctors. Discuss cases with other doctors, share insights and experiences, read research papers and case studies. Get Free Consultation 9625991603 | 9625991607 | 8595299366

Read the Next

view all