Home Blogs NirogStreet News सेना के बेस अस्‍पताल में आयुर्वेद उपचार यूनिट की शुरुआत

सेना के बेस अस्‍पताल में आयुर्वेद उपचार यूनिट की शुरुआत

By NS Desk | NirogStreet News | Posted on :   22-Oct-2019

Minister of State (IC) for AYUSH and Defence Shri Shripad Yesso Naik addressing at the inauguration of Ayurveda Palliative Care Unit at Palliative Care Centre, base Hospital, Delhi Cantt.

केन्द्रीय आयुष तथा रक्षा राज्य मंत्री श्रीपद येसो नाइक ने नयी दिल्ली के कैंट में सेना के बेस अस्पताल में आयुर्वेद उपचार इकाई का उद्घाटन किया। इस अवसर पर सशस्त्र बल चिकित्सा सेवा महानिदेशालय के तहत आने वाली चिकित्सा सेवाओं में आयुष चिकित्सा को शामिल करने के लिए आयुष और रक्षा मंत्रालय के बीच एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर भी किए गए।

उन्होंने अपने उद्धाटन भाषण में कहा कि हमारे जवान सियाचिन ग्लेशियर से लेकर थार के रेगिस्तान तक बेहद चुनौतीपूर्ण स्थितियों में काम करते हैं जिससे उनका शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य बुरी तरह प्रभावित होता हे। ऐसे में आयुर्वेद और योग इन जवानों के शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य को ठीक बनाए रखने में काफी मददगार हो सकता है जिससे उनकी सहन शक्ति में इजाफा होगा। श्रीपद नाइक ने बताया कि आयुर्वेद की औषधियां और स्नेहना और स्वेदना जैसी पंचकर्म प्रक्रियाओं के जरिये काम के दौरान मांसपेशियों में होने वाली गड़बडि़यों का प्रभावी तरीके से इलाज किया जा सकता है।

इस अवसर पर आयुष सचिव वैद्य राजेश कोटेचा तथा सशस्त्र बल चिकित्सा सेवाओं के महानिदेशक लेफ्टिनेंट जनरल बिपिन पुरी भी उपस्थित थे।

रक्षा और आयुष मंत्रालय के बीच हुए करार के तहत आयुर्वेद चिकित्सा इकाइयां गाजियाबाद के हिण्डन में भारतीय वायु सेना के रिसर्च और रेफरल अस्पताल और दिल्ली-एनसीआर क्षेत्र में स्थित एक्स सर्विसमेन कंट्रीब्यूटरी हेल्थ स्कीम (ईसीएचएस) की चिन्हित पांच पॉलिक्लिनिकों में भी खोली जायेंगी।

NS Desk

Are you an Ayurveda doctor? Download our App from Google PlayStore now!

Download NirogStreet App for Ayurveda Doctors. Discuss cases with other doctors, share insights and experiences, read research papers and case studies. Get Free Consultation 9625991603 | 9625991607 | 8595299366

डिस्क्लेमर - लेख का उद्देश्य आपतक सिर्फ सूचना पहुँचाना है. किसी भी औषधि,थेरेपी,जड़ी-बूटी या फल का चिकित्सकीय उपयोग कृपया योग्य आयुर्वेद चिकित्सक के दिशा निर्देश में ही करें।