Home Blogs Disease and Treatment हाइपोटेंशन के कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक उपाय - Hypotension ke Karan, Lakshan aur Ayurvedic Upay

हाइपोटेंशन के कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक उपाय - Hypotension ke Karan, Lakshan aur Ayurvedic Upay

By Dr. Bhawana Bhatt | Disease and Treatment | Posted on :   11-Feb-2021

रक्तचाप अर्थात ब्लड प्रेशर का कम या जयदा होना, दोनों ही स्वास्थ के लिए हानिकारक होता है। ब्लड प्रेशर जयदा हो तो इसे हाइपरटेंशन या उच्च रक्त दाब कहा जाता है तथा इसके विपरीत यदि ब्लड प्रेशर कम हो तो इसे निम्न रक्त दाब या हाइपोटेंशन के नाम से जाना जाता है।

वैसे तो हाइपो तथा हाइपरटेंशन दोनों ही स्वास्थ की दृष्टि से हानिकारक होते है लेकिन इन दोनों में भी हाइपोटेंशन जयदा नुकसानदायक होता है , क्योकि बहुत से लोगो में हाइपोटेंशन से सम्बंधित लक्षण या तो बहुत देर से दिखाई देते है या फिर दिखाई ही नहीं देते है इसलिए हाइपरटेंशन से ज़्यादा हाइपोटेंशन हानिकारक होता है।

हाइपोटेंशन के प्रकार - Types of Hypotension in Hindi

प्राइमरी हाइपोटेंशन-  बिना किसी बीमारी अथवा बिना किसी निश्चित कारण के होता है। इसे एसेंशियल हाइपोटेंशन भी कहते है। लगातार थकान तथा कमजोरी बने रहना इसका मुख्य लक्षण है।

सेकेंडरी हाइपोटेंशन- इस हाइपोटेंशन का कारण मायोकार्डियल इन्फार्क्शन, ट्यूबरक्लोसिस, नर्वस डिसऑर्डर्स, पिट्यूटरी तथा एड्रेनल ग्रंथि का कम सक्रिय होना ये सब होते है।

हाइपोटेंशन के लक्षण - Symptoms of Hypotension in Hindi

1. चक्कर आना
2. सर घूमना
3. जी मिचलाना
4. आँखों से धुंधला दिखाई देना
5. अधिक नींद आना
6. पूरे शरीर में थकान तथा कमजोरी का अनुभव होना
7. लम्बे समय तक बैठने या लेटने के बाद उठने पर आँखों के सामने अँधेरा सा छा जाना
8. ऊंचाई वाले स्थानो में जाने पर सांस लेने में कठिनाई होना या सांस फूलना
9. किसी भी कार्य को करने में मन न लगना अर्थात मन एकाग्रचीत न होना
10. हाथ पैर ठन्डे पड़ जाना
11. धड़कन का अनियमित होना अर्थात कभी कम तो कभी जयादा हो जाना

चिकित्सीय परामर्श कब ले? - When to Seek Medical Advice in Hindi?

स्फिग्मोमेनोमीटर के द्वारा नापे जाने पर यदि आपका ब्लड प्रेशर ९०/६० mmhg या इससे कम आये तथा साथ में चक्कर आना , थकान होना , आँखों के सामने अँधेरा छाना जैसे लक्षण न हो तो आपको चिकित्सक को दिखाने की जरूरत नहीं होती है लेकिन यदि ब्लड प्रेशर ९०/६०mmhg या इससे कम हो और साथ में थकान होना, आँखों के सामने अँधेरा छा जाना आदि लक्षण भी हो तो चिकित्सक से संपर्क कर के ब्लड प्रेशर कम होने के कारण का पता लगा उपचार लेना चाहिए।

हाइपोटेंशन के कारण - Causes of Hypotension in Hindi

1. किसी बीमारी ( जैसे अतिसार आदि ) की वजह से या कम मात्रा में तरल पदार्थो का सेवन करने से शरीर में पानी की कमी अर्थात डिहाइड्रेशन हो जाना।
2. डेंगू , मलेरिआ आदि किसी बीमारी के कारण या किसी दुर्घटना के कारण   शरीर में खून की कमी हो जाना।
3. हृदय सम्बंधी कोई विकार होना।
4. प्रेगनेंसी
5. एंडोक्राइन डिसऑर्डर्स जैसे डायबिटीज, थाइरोइड ग्रंथि के विकार से ग्रसित होना।

हाइपोटेंशन डायग्नोसिस - Hypotension Diagnosis in Hindi

हाइपोटेंशन के निदान के लिए कोई विशेष टेस्ट नहीं कराया जाता है। चिकित्सक रोगी के लक्षणों के आधार पर तथा sphygmomanometer  के द्वारा रोगी का ब्लड प्रेशर चेक कर के हाइपोटेंशन का निदान करते है। इसके अतिरिक्त हाइपोटेंशन हृदय सम्बंधित बीमारियों की वजह से है या किसी एंडोक्राइन डिसऑर्डर्स जैसे डायबिटीज, थाइरोइड आदि की वजह से इसका पता लगाने के लिए चिकित्सक ई . सी .जी तथा रक्त सम्बन्धी टेस्ट कराते है।

हाइपोटेंशन होने पर क्या करे और क्या न करे? - What to do and what not to do when you have hypotension in Hindi?

1. कॉफ़ी का सेवन करे।
2. अपने आहार में सैंधा नमक़ का प्रयोग करे अर्थात फलों तथा सब्जी में ऊपर से नमक़ लगा के खाये।
3. अल्कोहल का सेवन न करे।
4. शरीर में पानी की कमी न होने दे।
5. पर्याप्त मात्रा में तरल पदार्थो जैसे निम्बू पानी, अनार, गाजर, चुकुन्दर आदि का जूस रूप में या सूप रूप में सेवन करे।
6. थकाने वाले काम अधिक न करे।

हाइपोटेंशन से निजात के लिए घरेलु उपाय - Home Remedy for Relieving Hypotension in Hindi

1. दूध के साथ ख़ज़ूर का सेवन करे।
2. आंवले का प्रयोग जूस या किसी अन्य रूप में करे।
3. गाजर , चुकुन्दर के जूस का सेवन करे।
4. अदरक के छोटे छोटे टुकड़े कर उनमे सैंधा नमक मिलाकर खाये। 
5. किसमिस तथा चने का सेवन करे।

प्रश्न उत्तर - Question & Answer in Hindi

प्रश्न- हाइपोटेंशन से ग्रसित होने पर  किडनी तथा मस्तिष्क अंगो पर बुरा प्रभाव पडता है?
उत्तर-
हां , हाइपोटेंशन होने पर यदि उपचार न किया जाने तो किडनी तथा मस्तिष्क आदि अंगो पर बुरा प्रभाव पड़ता है।

प्रश्न- यदि अचानक से किसी का ब्लड प्रेशर कम हो जाये तो क्या करना चाहिए?
उत्तर-
यदि अचानक से किसी का ब्लड प्रेशर कम हो जाये उस व्यक्ति को तुरंत निम्बू पानी देना चाहिए या फिर उसको लेटा कर उसके पैर की तरफ वाले हिस्से को थोड़ा ऊचां कर देना चाहिए। चिकित्सीय भाषा में इसे फुट एन्ड रेज(foot end raise ) करना बोलते है।

प्रश्न- हाइपोटेंशन होने पर दवाओं का सेवन करना जरूरी है या यह खुद ही सही हो जाता है?
उत्तर-
दवाओं का सेवन करना है या नहीं यह इस बात पर निर्भर करता है की हाइपोटेंशन का कारण क्या है , क्या सिर्फ स्फिग्मोमेनोमीटर में ही ब्लड प्रेशर कम आ रहा है या साथ में कोई लक्षण भी है।

डिस्क्लेमर - लेख का उद्देश्य आपतक सिर्फ सूचना पहुँचाना है. किसी भी औषधि,थेरेपी,जड़ी-बूटी या फल का चिकित्सकीय उपयोग कृपया योग्य आयुर्वेद चिकित्सक के दिशा निर्देश में ही करें।