Home Blogs Ayurvedic Medicines अशोकारिष्ट के फायदे और नुकसान : Ashokarishta Benefits and Side Effects in Hindi

अशोकारिष्ट के फायदे और नुकसान : Ashokarishta Benefits and Side Effects in Hindi

By NS Desk | Ayurvedic Medicines | Posted on :   14-Jul-2021

अशोकारिष्ट एक आयुर्वेदिक दवा है जो महिलाओं की प्रतिरक्षा को मजबूत करती है

अशोकारिष्ट एक आयुर्वेदिक टॉनिक है जो महिलाओं के स्वास्थ्य के लिहाज से अपना एक विशिष्ट स्थान रखता है. यह स्त्रियों में हार्मोनल संतुलन प्रदान करता है और प्रजनन स्वास्थ्य में सुधार करता है। मासिक धर्म (Menstrual) के दौरान होने वाली पीड़ा और रक्तस्त्राव (Bleeding), मांसपेशियों का निर्माण, वजन, प्रजनन संबंधी समस्याएं, श्वेत प्रदर, गर्भाशय की मजबूती, सूजन, भूख की कमी आदि स्त्रियों से संबंधित सभी समस्याओं के  इलाज में भी यह प्रभावी ढंग से कार्य करता है। आप कह सकते हैं कि अशोकारिष्ट महिलाओं का सम्पूर्ण हेल्थ टॉनिक है। अशोकारिष्ट अपने नाम के अनुरूप ही अशोक की छाल और 14 अन्य प्राकृतिक जड़ी-बूटियों  और अवयवों से बनाया जाता है। इसमें सक्रिय यौगिकों में से एक के रूप में 5 से 10% घर का बना अल्कोहल भी होता है। दवा हल्के एस्ट्रोजेनिक, कार्मिनेटिव, एंटी-कार्सिनोजेनिक, एंटी-इंफ्लेमेटरी, हेमैटिनिक और एडाप्टोजेनिक गुणों को प्रदर्शित करती है।

यह भी पढ़े ► दशमूलारिष्ट के फायदे और नुकसान

अशोकारिष्ट के फायदे - Ashokarishta Benefits in Hindi

मासिक धर्म के दौरान रक्तस्राव 
मेनोरेजिया (Menorrhagia), रक्त प्रदर (Metrorrhagia) या अत्यधिक मासिक धर्म रक्त स्राव (Menstrual bleeding) के रूप में जाना जाता है। यह पित्त दोष के बढ़ने के कारण होता है। अशोकारिष्ट अपने संतुलित गुणों पित्त और कषाय (कसैले) के कारण मेनोरेजिया का इलाज करने में मदद करता है।

मासिक धर्म के दौरान दर्द
मासिक धर्म वात दोष द्वारा नियंत्रित होता है। बढ़े हुए वात दोष का पता कष्टार्तव के लक्षणों से लगाया जा सकता है। अशोकारिष्ट अपने वात संतुलन गुण के कारण कष्टार्तव के इलाज के लिए सबसे अच्छे योगों में से एक है। यह शूल शामक (दर्द निवारक) संपत्ति के कारण मांसपेशियों को आराम देने और ऐंठन से राहत दिलाने में भी मदद करता है।

रजोनिवृत्ति के लक्षण
अशोकारिष्ट एक प्रभावी क्लासिक आयुर्वेदिक दवा है जो रजोनिवृत्ति सिंड्रोम के लक्षणों का इलाज करने में मदद कर सकती है। रजोनिवृत्ति सिंड्रोम को राजोनिवृति से जोड़ा जा सकता है, जो वात दोष के एकत्रीकरण के कारण होता है। अशोकारिष्ट स्निग्धा और वात की संतुलित गुणवत्ता के कारण वात दोष को नियंत्रित करने में मदद करता है। ये गुण वात की रूक्ष (शुष्क) प्रकृति का प्रतिकार करते हैं और इस प्रकार रजोनिवृत्ति सिंड्रोम के लक्षणों को कम करते हैं।

बवासीर 
अशोकारिष्ट वात दोष को संतुलित करके बवासीर की सूजन को कम करता है। अशोकारिष्ट अपने शीतल (ठंडे) स्वभाव के कारण बवासीर से जुड़ी जलन और परेशानी को भी कम करता है। इसके शीतल प्रभाव से गुदा में जलन कम होती है। अशोकारिष्ट बवासीर में रक्तस्राव का इलाज करने में भी मदद करता है।

महिला बांझपन
महिला बांझपन के मुख्य कारणों में से एक हार्मोनल असंतुलन है जो पॉलीसिस्टिक डिम्बग्रंथि रोग (पीसीओडी) के कारण हो सकता है। बांझपन के कई अन्य कारण हैं, जैसे चिंता, अवसाद और अनिद्रा। आयुर्वेद के अनुसार, तीनों दोष महिला बांझपन में शामिल हैं, जो कभी-कभी शरीर में विषाक्त पदार्थों के संचय की 
वजह से उत्पन्न होता है। अशोकारिष्ट महिला बांझपन की स्थिति में एक तरफ शरीर को आंतरिक बल प्रदान करती है और दूसरी तरफ शोधन के माध्यम से शरीर के विषाक्त पदार्थों को निकालता है।

अपच
आयुर्वेद में पाचन संबंधी समस्याओं को 'अग्निमांड्य' कहा जाता है। यह पित्त दोष में असंतुलन के कारण होता है। मांड अग्नि (कम पाचक अग्नि) के कारण जब भी खाया गया भोजन पचता नहीं है, तो अमा (खराब पाचन के कारण शरीर में विषाक्त अपशिष्ट) का निर्माण होता है, जिससे अपच होता है। अशोकारिष्ट अपने पचक (पाचन) गुण के कारण अमा को पचाने में मदद करता है। पित्त दोष को संतुलित करके पाचन अग्नि को बढ़ाता है।

यह भी पढ़े ► अभयारिष्ट के फायदे और नुकसान

अशोकारिष्ट के दुष्प्रभाव - Ashokarishta Side Effects in Hindi

अशोकारिष्ट एक आयुर्वेदिक दवा है जिसमें प्राकृतिक घटक होते हैं और इसलिए इसका कोई बड़ा दुष्प्रभाव नहीं होता है। हालांकि, कुछ मामलों में, इसके कुछ हल्के दुष्प्रभाव हो सकते हैं। इसमे शामिल है -

  • नाराज़गी और अम्लता
  • देर से या मिस्ड पीरियड्स
  • कम मासिक धर्म प्रवाह
  • उच्च रक्तचाप
  • उल्टी और जी मिचलाना

अशोकारिष्ट में प्रयुक्त जड़ी-बूटियाँ / घटक : Ashokarishta Ingredients in Hindi 

अशोकारिष्ट एक आयुर्वेदिक दवा है जो महिलाओं की प्रतिरक्षा को मजबूत करती है और एस्ट्रोजेनिक, कार्मिनेटिव, एंटी-कार्सिनोजेनिक, एंटी-इंफ्लेमेटरी, हेमेटिनिक और एडाप्टोजेनिक गुणों को प्रदर्शित करती है। यह 15 प्राकृतिक घटकों से बना है। मुख्य घटक अशोक की छाल है और उसके अलावा एनी घटक हैं  - 

  • अशोक की छाल 
  • कलौंजी
  • भारतीय करौदा
  • हरीताकि
  • मुस्तक जड़ें
  • गुड़
  • चंदन
  • अदुलसा
  • जीरे का बीज
  • आम बीज
  • अदरक राइज़ोम
  • विभीतकी
  • धताकी फूल
  • उत्पला फूल
  • दारुहरिद्र

अशोकारिष्ट की खुराक - Ashokarishta Doses in Hindi 

अशोकारिष्ट की शीशी पर लिखे निर्देशानुसार खुराक लेनी चाहिए। वैसे अशोकारिष्ट की सामान्य खुराक 5 से 10 मिलीलीटर सिरप दिन में दो या तीन बार। यह रोगी की प्रकृति पर निर्भर करता है। अशोकारिष्ट की खुराक लेना यदि कभी भूल जाते हैं तो याद आते ही तुरंत ले अन्यथा ज्यादा देर होने पर छोड़ दे। लेकिन छूटी हुई खुराक की भरपाई के लिए दोहरी खुराक कभी न ले। क्योंकि दवा की निर्धारित मात्रा से अधिक का सेवन गंभीर दुष्प्रभाव या दवा विषाक्तता का कारण बन सकता है और इसलिए इस दवा के ओवरडोज से बचना चाहिए। दवा के सेवन के समय किसी तरह के कोई दुष्प्रभाव महसूस हो तो तुरंत आयुर्वेद चिकित्सक से संपर्क करे। 

अशोकारिष्ट की ऑनलाइन खरीद - Buy Ashokarishta Online 

अशोकारिष्ट का संग्रहण और सुरक्षा जानकारी - Ashokarishta Safety Information in Hindi 

  • दवा को सीधे धूप और गर्मी से दूर रखा जाना चाहिए।
  • इसे सूखी और ठंडी जगह पर रखना चाहिए।
  • दवा को बच्चों की पहुंच से दूर रखा जाना चाहिए

यह भी पढ़े ► लिव 52 के फायदे और नुकसान

अशोकारिष्ट से संबंधित प्रश्न (एफएक्यू) - Ashokarishta FAQs in Hindi

(1) अशोकारिष्ट का उपयोग किस रोग के इलाज के किया जाता है?
उत्तर। अशोकारिष्ट का उपयोग मुख्य रूप से मासिक धर्म संबंधी विकारों और स्त्रीरोग संबंधी रोगों जैसे मेनोरेजिया, डिसमेनोरिया, पीसीओडी और गर्भाशय पॉलीप्स के इलाज के लिए किया जाता है। इसका उपयोग एडिमा, मूत्र पथ की बीमारी और एनोरेक्सिया के इलाज के लिए भी किया जा सकता है।

(2) अशोकारिष्ट को पीरियड रेगुलेशन पर अपना प्रभाव दिखाने में कितना समय लगता है?
उत्तर। अशोकारिष्ट को सामान्य माहवारी को नियमित करने में आमतौर पर 1 से 2 महीने का समय लगता है। इस मामले से चिकित्सक से परामर्श किया जाना चाहिए।

(3) अशोकारिष्ट कौन-कौन सी कंपनी बनाती है?
उत्तर। यह आयुर्वेदिक दवा डाबर, बैद्यनाथ, धूतपापेश्वर, मुल्तानी आदि कई ब्रांडों के तहत उपलब्ध है। 

(4)- अशोकारिष्ट की मुख्य सामग्री क्या हैं?
उत्तर। यह 15 प्राकृतिक अवयवों से बना है। मुख्य घटक अशोक की छाल है और अन्य में गुड़, मुस्तक की जड़ें, कलौंजी, अदरक प्रकंद, विभीतकी आदि शामिल हैं।

(5)- अशोकारिष्ट का सेवन खाना खाने से पहले करना चाहिए या खाना खाने के बाद?
उत्तर। अशोकारिष्ट का खाली पेट सेवन करने से ज्यादा असर नहीं होता है इसलिए खाना खाने के बाद इसका सेवन करना चाहिए। 

(6)- क्या अशोकारिष्ट वजन कम करने में कारगर है?
उत्तर। हां, यह वजन कम करने में मदद कर सकता है। 

(7)- क्या गर्भावस्था के दौरान अशोकारिष्ट का सेवन किया जा सकता है?
उत्तर। नहीं, गर्भावस्था के दौरान अशोकारिष्ट का उपयोग सख्त वर्जित है। गर्भावस्था के दौरान इस दवा का उपयोग करने से हार्मोनल असंतुलन और निर्जलीकरण हो सकता है और इस प्रकार यह भ्रूण के स्वास्थ्य को प्रभावित कर सकता है।

(8)- क्या अशोकारिष्ट को रोजाना लिया जा सकता है ?
उत्तर। आम तौर पर अशोकारिष्ट के 1-2 चम्मच (5-10 मिली) दिन में दो बार समान मात्रा में पानी के साथ भोजन के बाद लेने की सलाह दी जाती है। आप इसे अपने चिकित्सक द्वारा निर्देशित के रूप में भी उपयोग कर सकते हैं।

(9)- क्या स्तनपान कराने वाली महिला अशोकारिष्ट ले सकती है?
उत्तर। स्तनपान कराने वाली महिलाओं में अशोकारिष्ट के उपयोग का सुझाव देने के लिए पर्याप्त जानकारी उपलब्ध नहीं है। आमतौर पर स्तनपान के दौरान हर्बल दवाओं के सेवन की सलाह नहीं दी जाती है।

(10)- क्या अशोकारिष्ट से नीरसता बढती है?
उत्तर। नहीं, अशोकारिष्ट शरीर को उर्जावान बनाती है।

अंग्रेजी में पढ़े ► Ashokarishta: Benefits, Side Effects, Composition and Dosage

NS Desk

Are you an Ayurveda doctor? Download our App from Google PlayStore now!

Download NirogStreet App for Ayurveda Doctors. Discuss cases with other doctors, share insights and experiences, read research papers and case studies. Get Free Consultation 9625991603 | 9625991607 | 8595299366

डिस्क्लेमर - लेख का उद्देश्य आपतक सिर्फ सूचना पहुँचाना है. किसी भी औषधि,थेरेपी,जड़ी-बूटी या फल का चिकित्सकीय उपयोग कृपया योग्य आयुर्वेद चिकित्सक के दिशा निर्देश में ही करें।